Hindi Poem on Language- मैं भाषा हूँ

alzheimers-3068938_960_720.jpg

सबको जोड़ती हूँ एक दूसरे से
मैं वही भाषा हूँ
जिसके मन में जो बात हो
वो कहता है लेकर मेरे शब्दों का सहारा
कोई रचता है काव्य कोई साहित्य
और कोई लगा देता है नारा
हाँ मैं वही भाषा हूँ

One thought on “Hindi Poem on Language- मैं भाषा हूँ”

Leave a Reply to AARSHITHA UNNIKRISHNAN Cancel reply