Tags

, , ,


geek_cat-wallpaper-1280x1024.jpg

आज का यह युग
जिसे कहते हम कलियुग
गांधी जैसे महात्मा
कसाब जैसे शैतान का युग
मानते है लड़की को देवी जहाँ
फिर भी गर्भ मे उनकी हत्या करने वालों का युग
करते है रात रात भर देवी जागरण
ऐसे कुछ भक्तों और दिल्ली के उन दरिंदो युग
नोकरी से पहले खाते ईमानदारी की कसमें
फिर भी १०० में ९० बेईमानों का युग
यहाँ अमीर कम खाता है
क्योंकि सुना है ज्यादा खाने से पेट बढ़ जाता है
सबका पेट भरने की खातिर जो किसान पसीना बहाता है
आखिर वही किसान भूख से मर जाता है
ये है बलवानों का युग,
राजतंत्र के पहलवानों का युग
चुनाव से पहले जो घर आते उन सज्जनों का युग,
चुनाव के बाद जो भूल जाते उन दुर्जनों का युग
यहाँ अमीर गरीब नहीं गरीबों को हटाते हैं
उनका कहना है गरबों के झोपड़े उनके महलों पे दाग लगाते हैं
एक तरफ ये ए.सी मे आराम फरमाते हैं
दूसरी तरफ वही गरीब लोग गर्मी से फड़फड़ाते हैं
राम नहीं,रहीम नहीं,ना समय अब कबीर का
भूल गए सब दोहे,वक़्त अब हनी सिंह का
भूल गए अब सब मंत्र
पूजा करता खुद अब संगीत यंत्र
हे भगवन आया केसा युग है
मित्रों जरा संभल के, घोर कलियुग है

-नितेश गौर

Advertisements