Tags

, , ,


girl-1555789_960_720

सालगिरह आती रही,
सालगिरह जाती रही,
पर ना खोल सका उन गिरहों को कोई
जो वक़्त ने बाँध रक्खी थीं,
ऐसा क्या ओर क्यों कर था
कि उनका सिरा भी ना मिला?
शायद वो सिरे कहीं दूर थे,
हमारी अपनी पहुँच से दूर,
बहुत दूर अनंत में गढ़े हुए,
या हमारे अपने हाथों की छाप में मढ़े हुए?
कौन जाने ?
जतन मैंने भी किये बेहिसाब,
चाहा तुमने भी बहुत,
पर शायद वक़्त ने सराहा ही नहीं,
वरना क्या वजह हो सकती थी
कि ज़िन्दगी भर साथ चलने के बावजूद
हम किनारों की तरह किनारों पर ही रहे ?
एक किनारा तेरा था,
एक किनारा मेरा भी,
शायद वक़्त ही ठीक से बाँधना भूल गया था
सप्तपदी की गिरह को,
या भूल गया था कोई ऐसी गिरह
जो दोनों किनारों को बाँध पाती,
या दोनों को ले जाकर
छोड़ देता किसी सागर में?
शायद मिल ही जाती वजह
हमें अगली सालगिरह के इंतज़ार की !

-दीपक कुलश्रेष्ठा

Salgirh aati rahi 
Salgirh jati rahi
Par na khol ska un girhon ko koi
Jo wakt ne band rakhi thi
Esa kya aur kyon kar rha tha
Ki unka sira bhi na mila?
Sayad wo sire khi dur they
Hamari apni phunch se dur
Bhut dur annat mein gadhe huye
ya hmare apne hathon ki chhap me mndhe huye
Kon jane?
Jatan mene bhi kiye behissab
Chaha tumne bhi bhut
Par sayd wakat ne sraha hi nai
Varna kya bjh ho skti thi
Ki zindgi bhr sath chalne k babzud
Hum kinaro ki trh kinaro ppar hi rhe
Ek kinara tera tha
Ek kinara mera
Sayd wakat hi theek se bandhna bhul gya tha
Saptpadi ki girh ko
Ya bhul gya tha koi esi girh
Jo dono kinaro ko band pati
Ya dono ko le ja kr
Chhod deta kisi sagar mein
Sayd mil hi jati bjh 
Hmein agli salgirh k intjar ki
–Deepak Kulshrestha
Advertisements