Hindi Poem on Demonetization: नोटबंदी पर कविता

money-1811934_960_720

बंद हुए है पाँच सौ हज़ार
चारो तरफ है हाहाकार
बैंक के आगे लगी कतार
ए टी ऍम में भीड़ भरमार
काला धन जिसका भरमार
वो करो घोषित भरो आयकर
गरीब अमीर व्यापार घर संसार
सबपे है भारी नोटबंदी का विचार

-अनुष्का सूरी
Band hue hain paanch sau hazaar
Chaaro taraf hai hahakar
Bank ke aage lagi kataar
Atm mein bheed bharmar
Kala dhan jiska bharmar
Wo karo ghoshit bharo aykar
Gareeb ameer vyapaar ghar sansar
Sabpe hai bhari notebandi ka vichar

-Anushka Suri

One thought on “Hindi Poem on Demonetization: नोटबंदी पर कविता”

Leave a Reply to ggg Cancel reply