Tags

,

woman
लग रहा था  कि ये बात की शुरुआत होगी
पर क्या पता था की ये अंत की शुरुआत होगी
चलो शुरुआत  तो हुई , चाहे अंत की या शुरूआत  की
पिंजरे में कैद थी वो सोच रही थी फुर्र होने की
पर लगे उसके फड़फड़ाने ,हो गई शुरुआत उड़ान की
भरने लगी जब वो उड़ान तो उड़ ना सकी वो नादान
दम  तोड़ दिया उसने हो गई उसके अंत की शुरुआत
चाहे अंत की हो या उड़ान की
चाहे अंत की हो या उड़ान की
पर हो तो गई शुरुआत
 पर हो तो गई शुरुआत

-मानसी गोयल

Lag raha tha ki ye baat ki shruaat hogi…
par kya pta tha ki ye aant ki shruaat hogi…
chalo shruaat toh hui, chaahe aant ki ya shuruaat ki…
pinjade main kaid thi wo, soch rh thi furrr hone ki..
par lage uske phadfhadaane, ho gyi shruaat udaan ki…
bharne lagi jab wo udaan, toh udh na saki wo naadaan,
dam tod diya usne ho gyi uske aant ki shruaat…
chahe aant ki hui ho ya udaan ki…
chahe aant ki hui ho ya udaan ki…
par ho toh gyi shruaat…
par ho toh gyi shruaat..

-Mansi Goyal