Hindi Poems on Time- रफ़्तार से


clock-650753_960_720

चल रहा है वक्त धीमी रफ़्तार से
चल रही हूँ में धीमी रफ़्तार से
ना जाने क्यूँ चल रहा है वक़्त
ना जाने क्यूँ चल रही हूँ मैं
धीमी रफ़्तार से
ख़ुशी के वक़्त चलता वक़्त तेज़ रफ़्तार से
दर्द के वक़्त चलता वक़्त धीमी रफ़्तार से
शायद चल रहा है दर्द मेरे अंदर
धीमी रफ़्तार से
किसी ने पकड़ा था हाथ तो चल पड़ा वक़्त रफ़्तार से
छोड़ दिया उसने हाथ तो रुक गया वक़्त बिना बात के
वक़्त तो वो ही है और चल रहा वो अपनी रफ़्तार से
शायद मैं ही चल रही हूँ खुद अपनी रफ़्तार से
शायद मैं ही चल रही हूँ खुद अपनी रफ़्तार से

-मानसी गोयल

Chal raha hai waqt dheemi raftaar se…
Chal rahi hun me dheemi raftaar se…
Na jaane kyun chal rha h waqt…
Na jaane kyun chal rhi hun main
Dheemi raftaar se…..
Khushi ke waqt chalta waqt tez raftaar se…
Dard ke waqt chalta waqt dheemi raftaar se…
Shayad chal rha h dard mere andar
Dheemi raftaar se…
Kisi ne pakda tha hath toh chal pada waqt raftaar se…
Chhodh diya usne hath toh ruk gya waqt bina baat ke…
Waqt toh wo hi h or chal rha wo apni raftaar se
Shayad main hi chal rh hun khudh ki apni raftaar se…
Shayad main hi chal rh hun khudh ki apni raftaar se…

-Mansi Goyal

Advertisements

One thought on “Hindi Poems on Time- रफ़्तार से”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.