Tags

, , , , ,

woods-1524606_960_720

दीर्घ पथ पर एक अबला ,अपने क्षण को काट रही थी।
नेत्र बुझे उसके दोनों थे,शायद आँखोँ में प्यास रही थी।
नभ में अवतरित मेघ काले थे,मन मन में कुछ फुसफुसा रही थी।
सफर कटा अब कटता ही चला,मृत्यु भी तो समीप ना आ रही थी।
शायद दोपहर का पहर था वह,धूप नहीं वर्षा आ रही थी।
तीव्र गति से मेघों के झुण्ड,झटपट झटपट वर्षा रही थी।
वह तो पहले ही मर रही थी,वर्षा उसकी पीड़ा और बढ़ा रही थी।
तन अधीर पट विक्षीण थे,किसी तरह बिछौने से लिपटा रही थी।
दीर्घ राह से निकले सब थे,लोगों ने देखा पर ना पुकार रही थी।
वर्षा वर्षा वर्षा घनघोर घटा से,आँखों में प्यास पर ना प्यास रही थी।
मौत के रास्ते हुए कई हैं,शायद वही पथ तलाश रही थी।
मौत बन रही सौत उसे थी,जो उसे अति प्रताड़ित कर रही थी।
मन्नते माँगी उसने कितनीं,मृत्यु उसके पास आने से शर्मा रही थी।
शरीर जीर्ण पद घायल थे,श्वासों से शीत वायु बहा रही थी।
एक आध ही दृष्टि पड़ी थी,लगता था जैसे वह मर रही थी।
लगता था मुझको कुछ ऐसा,मृत्यु भी जनों की भाँति घृणा कर रही थी।
जीवित रखता है वह सबको ,वह मरती मरती जी रही थी।
सब की होती ख़्वाहिशें व्यापक,पर वह व्यापक मृत्यु बुला रही थी।
महसूस करूँ तो ऐसा लगता,मृत्यु तो फ़रमान ही ना सुना रही थी।
पर मृत्यु उसके पास कड़ी थी, वह मृत्यु के समीप मृत्यु उससे दूर जा रही थी।
दीर्घ पथ पर एक अबला , अपने क्षण को काट रही थी।

-सर्वेश कुमार मारुत

 

Deergh path par ek abla , apne kshan ko kaat rhi thi
Neitra buhjhe uske dono the, shayad aankhon mein pyas rahi thi
Nabh mein avtarit megh kaley the man man me kuch fusfusa rhi thi
Safar kata ab kat-ta hi chala, mrityu bhi to samip na aa rahi thi
Shayad dophar ka pahar tha veh, dhoop nahi varsha aa rahi thi
Tivra gati se megho ke jhund, jhat pat jhat pat varsha rahi th
veh to pahle hi mar rahi thi, varsha uski pida aur badha rahi thi
Tan adhir pat viksheen the, kisi tarah bichone se lipta rahi thi
Deergh rah se nikle sab the, logon ne dekha par na pukar rahi thi
Varsha varsha varsha ghanghor ghata se, aankhon mein pyas par na pyas rahi thi
Maut ke raste hue kai hain, shayad wahi path talash rahi thi
Maut ban rahi saut use thi, jo use ati pratadit kar rahi thi
Mannatein mangi usne kitni,mrityu uske paas ane se sharma rahi thi
Sharir jeerna pad ghayal the, shwaso se sheet vayu baha rahi thi
Ek aadh hi drishti padi thi, lagta tha jeaie veh mar rahi thi
Lagta tha mujhko kuch aisa,mrityu bhi jano ki bhanti ghrina kar rahi thi
Jeevit rakhta hai veh sabko, veh marti marti jee rahi thi
Sabki hoti khwahishein vyapak par veh vyapak mirtyu bula rahi thi
Mahsus karu to aisa lagta mrityu to farmaan hi na suna rahi thi
Par mirtyu uske paas khadi thi, veh mrityu ke sameep mrityu usse dur ja rahi thi
Deergh path par ek abla , apne kshan ko kaat rahi thi

-Sarvesh Kumar Marut

Advertisements