Hindi poem on India – हे मातृभूमि! तेरी ख़ातिर


bharat-mataImage source: prernabharti.com

हे मातृभूमि! तेरी ख़ातिर,
लेकर यह अभियान चले।
अपनी जान हथेली पर हम,
तुझ पर होने बलिदान चले।
हम घट-घट के वासी हैं,
जो भी नज़र उठा चले।
हम वीर नहीं-हम वीर नहीं,
इसकी रक्षा करने मिलकर साथ चले।
रोम-रोम बस रोम-रोम,
बस यही हमें याद दिलाता है।
हम रह पाये या न रहें,
यह लेकर मन में प्रतिघात चले।
हमें प्रेम है प्यार बहुत है,
बलिहारी इस पर हम होने चले।
घात-घात है बात-बात है,
घात-बात पर अपना सिर चढ़ा चले।
यह देश नहीं-यह देश नहीं,
हम कहते इसको भारत माता।
जिसने देखा या घात किया,
उसको करने हम ख़ाक चले।
मित्र के साथ मित्रवत् बनें,
हन्त के साथ अरिहन्त बन चले।
देश का जवां बच्चा इस पर,
क्यों न न्यौछावर होना चाहे?
इसे देख सब अचरज में पड़े,
तथा हाथ मलते चले-मलते चले।
इसे देख ऐसा लगता सबको,
हम लोग नहीं सब हैं भारतवासी।
आओ नमन करें सब मिलकर,
जो रक्षा करते चलते चले-चलते चले।
हे मातृभूमि! तेरी ख़ातिर,
लेकर यह अभियान चले।
अपनी जान हथेली पर हम,
तुझ पर होने बलिदान चले।

-रचयिता- सर्वेश कुमार मारुत
Hei matarbhumi teri khatir
Lekar yeh abhiyaan chle
Apni jaan hathali par hum
Tujh par hone balidaan chle
Hum ght ght k basi hai
Jo bhi nazar utha chle
Jum veer nai hum veer nahi
Eski rksha krne mil kar sath chle
Rom rom bs rom rom
Bas yhi hum yaad dilata hai
Hum reh paye ya na rehe
Yeh lekar man me partighat chle
Hme prem hai pyar bhut hai
Balihari es par hum hone chle
Ghaat ghaat hai baat baat hai
Ghaat baat par apna seer chdha chle
Yeh desh nahi yeh desh nahi
Hum khte esko bharat mata
Jisne dekha ya ghaat kiya
Usko krne hum khak chle
Mitar ke sath mitrbat bne
Hant k sath arihant ban chle
Desh ka jwa bcha es par
Kyon na nyochawar hona chahe
Ese dekh sab achraz me pade
Ttha hath malte chle malte chle
Ese dekh esa lagta hai sabko
Hum log nahi sab hai bharat basi
Aao naman kre sab milkar
Jo rkhsha krte chlte chle chalte chle
He matrbhumi teri khatir
Lekar ye abhiyaan chle
Apni jaan hatheli par hum
Tujhpar hone balidaan chle

-Servesh Kumar Marut

2 thoughts on “Hindi poem on India – हे मातृभूमि! तेरी ख़ातिर”

  1. बहुत अच्छा लगा, सेना के प्रति आभार प्रकट करना हर
    व्यक्ति का कर्तव्य है।

    Like

Leave a Reply to Sachin patel Cancel reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.