Hindi Poem on Courage – जिंदगी की जंग


जिंदगी की जंग जीत जाने की हिम्मत तो है
रोजगार ना सही पर कमाने की हिम्मत तो है

वक्त बेवक्त मिले फिर भी कोई गम नही
सूखी रोटी ही सही खाने की हिम्मत तो है

महलों में रहने की “राहुल” तेरी औकात नही पर
तिनका-तिनका जोड़, घर बनाने की हिम्मत तो है

डूब गयी पतवारें लेकिन हौसला अभी बाकि है
कश्ती को साहिल तक पहुँचाने की हिम्मत तो है

काट डालो जुबान चाहें शायर की आज तुम
हकीकत को कलम से बताने की हिम्मत तो है

सत्ता के गलियारों में भ्रष्ट सरकारों के खिलाफ
अकेली आवाज ही सही उठाने की हिम्मत तो है

– राहुल रेड

Zindgi ki jung jitne ki himmat to hai
Rozgar na shi par kmane ki himmat to hai

Waqt bewaqt mile fir bhi koi gum nahi
Sukhi roti hi shi khane ki himmat to hai

Mehlonme rhne ki rahul teri aukaat nahi par
Tinka tinka jod kar ghr bnane ki himmat to hai

Dub gai patware lekin hosla abhi baki hai
Kashti ko sahal tk phuchane ki himmat to hai

Kaat dalo juban chahe shayr ki aaj tum
Hakikat ko kalam se btane ki himmat to hai

Stta ke galiyaro mein bhrast sarkaro ke khilaf
Akeli aawaj hi shi uthane ki himmat to hai

– Rahul Red

 

Advertisements

3 thoughts on “Hindi Poem on Courage – जिंदगी की जंग”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.