Tags

,

तनहाई की महफ़िल में मुस्काना नहीं सीखा
नाजुक फूलों सा कभी मुरझाना नहीं सीखा

टूटा हूँ बहुत लेकिन गिर-गिर के सम्भला हूँ
कैसी भी हो राह मगर रुक जाना नहीं सीखा

भूल गए वो लोग जिनका साथ दिया हर पल
उनकी तरह मैंने अहसान जताना नहीं सीखा

कड़वा सच बोलता हूँ भले नफरत करे जमाना
झूठी तसल्ली देकर कभी समझाना नहीं सीखा

सताया बहुत था कभी इस ज़माने ने फिर भी
अनजाने में दिल किसी का दुःखाना नहीं सीखा

आँखे भी बयाँ कर देती हैं दिल की सारी बातें
कुछ बातों को लफ्जो ने मेरे बताना नहीं सीखा

दिल लगता है एक बार ही दुनियाँ में किसी से
इस दिल को मैंने बार-बार लगाना नहीं सीखा।

– राहुल रेड

Tanhai ki mehfil me muskana nahi seekha
Nazuk phoolon sa kabhi murjhana nahi seekha

Toota hoon bhut lekin gir gir ke sambhla hoon
Kaisi bhi ho rah magar ruk jana nahi sikha

Bhul gaye wo log jinka sath diya har pal
Unki tarah maine ehsaan jatana nahi seekha

Kadwa sach bolta hoon bhale nafrat kare jamana
Jhuthi tasalli de kar kabhi samjhana nahi seekha

Sataya bahut tha kabhi iis jamane ne fir bhi
Anjane me dil kisi ka dukhana nahi seekha

Aankhein bhi bayan kar deti hai dil ki sari batein
Kuch baton ko lafzo ne mere batana nahi sikha

Dil lagta hai ek bar hi duniya me kisi se
iis dil ko maine bar bar lagana nahi seekha

– Rahul Red

Advertisements