Hindi Poem on Tobacco Addiction – तम्बाकू की लत

सिगार सिगरेट हुक्का बीड़ी तम्बाकू
इतने बुरे हैं जैसे हो कोई डाकू
जो इनको नित खाये ये उसको खा जाएं
ऐसा राक्षस और कौन है आप ही बताएं
फेफड़े आपके काले होकर सड़ेंगे
कैंसर के बुलाये मरीज़ आप बनेंगे
तम्बाकू की लत है मानो आत्महत्या करना
हो स्वस्थ रहना तो इस चक्कर में न पड़ना
-अनुष्का सूरी

3 thoughts on “Hindi Poem on Tobacco Addiction – तम्बाकू की लत”

Leave a Reply to Jekka Swetha (J Swethagodawari) Cancel reply