Tags

, ,


क्यो छोड़ गयी माँ मुझे अकेली,
क्यो डाल गयी अनाथ की झोलीी,
ठोकर खा-खा कर चलना सिखी,
नफरत की दुनिया मे जलना सिखी,
काँटो से भरे इन रस्तो पर मैं,
गिर-गिर कर सँभलना सिखी,
नन्हे कदम कभी ये ना जाने,
मुश्किल है जीवन की पहली,
क्यो छोड़ गयी माँ मुझे अकेली,
क्यो डाल गयी अनाथ की झोली,
उठते है थामे हाथ कटोरा,
क्यूँ बेबस हूँ इतनी,
क्या दोष है मेरा,
इन आँखो मे तब आँसू भर आए,
जब दरिन्दो के हाथो बेचा जाए,
ये दुनिया समझे मुझे खिलौना,
पर खेल है इनका कितना घिनौना ,
फिरती हूँ रखकर मैं जान हथेली,
क्यो छोड़ गयी माँ मुझे अकेली,
क्यो डाल गयी अनाथ की झोली,
ऐ खुदा क्या। नसीब है मेरा,
ये कैसा इन्साफ है तेरा,
घूम रहे हैं खुले आम दरिन्दे,
लगा दिया क्यूँ मुझ पर पहरा,
कानून के हाथ बँधे रिश्वत से,
पड़ गयी हूँ मैं आज अकेली,
क्यो छोड़ गयी माँ मुझे अकेली,
क्यो डाल गयी अनाथ की झोली।

-गरीना बिशनोई

Kyon chhod gayi maa mujhe akeli
Kyon daal gayi anath ki jholi
Thokar kha kha kar chalna sikhi
Nafrat ki duniya me jalna sikhi
Kanton se bhare en raston par main
Gir gir kar sambhlna sikhi
Nanhe kadam kabhi ye na jane
Mushkil hai jivan ki pheli
Kyon chhod gayi maa muje akeli
Kyon daal gayi anath ki jholi
Uthte hai thame hath ktora
Kyun bbebas hoon etni
Kya dosh hai mera
En aankhon me tab aansu bahr aaye
Jab darindo ke hath bhecha jaye
Ye duniya samjhe muje khilona
Par khel hai enka kitna ghinona
Firti hu rakhkar main jaan hatheli
Kyon chhod gayi maa muje akeli
Kyon dal gayi anath ki jholi
Aei khuda kya nasib hai mera
Ye kesa hai insaaf tera
Ghum rhe hai khule aam drinde
Lga diya kyon mujh par pehra
Kanun k hath bande risbat se
Pad gayi hu main aaj akeli
Kyon chod gayi maa muje akeli
Kyon daal gayi anath ki jholi

-Gareena Bishnoi

Advertisements