Tags

, , , , , , , ,


ज़िन्दगी के हर मोड़ पे खिल खिला के चल रहा था।
छोटी छोटी ज़िन्दगी के लिए ज़िन्दगी से लड़ रहा था।।
वो भी अढ़ गया कि इसको हर राह पर आजमानी ह।
एक पल के लिए मै भी सोचा ये कैसी मन मानी है ।।
हर जगह नए सवालों के साथ वो तैयार था।
अपनी ही मन मानी में वो अयार था।।
देख लेना ज़िन्दगी एक दिन खुद ब खुद मरेगा ।
चुनौती देते देते कभी ना कभी तो वो थकेगा।।
ज़िन्दगी हर मोड़ पर मेरी परीक्षा ली रही थी ।
जोकि शायद सही था पर वो बेखबर था कि खुदा वहीं था।।

– निखिल

Zindagi ke har mod pe khil khila ke chal rha tha
Choti choti zindagi ke liye zindagi se lad rha tha
Wo bhi ad gya ki esko har raah par aajmani hai
Ek pal ke liye main bhi socha ye kesi manmani hai
Har jagah aye swalon ke sath wo tayar tha
Apni hi man mani mein wo ayar tha
Dekh lena zindagi ek din khud b khud marega
Chunauti dete dete kabhi na kabhi to wo thakega
Zindagi har mod par meri pariksha le rahi thi
Joki sayad sahi tha par wo bekhabar tha ki khuda wahi tha

– Nikhil

Advertisements