Tags

, , , , , ,


सुंदर पंखों वाली तितली,
रंग रंगीली प्यारी तितली।
पंखों को तू है फड़काती,
फूल-फूल पर है मड़राती।
फूलों को तू बहुत चाहती,
फूल बिना प्यासी रह जाती।
फूलों से तू रस है भरती,
और ना जाने क्या-क्या करती?
कठिन परिश्रम तू है करती,
मानव से तू बहुत है डरती।

– सर्वेश कुमार मारुत

Sunder pankhon wali titli
Rang rangili pyari titli
Pankhon ko tu fadkati
Phul phul par hai mandrati
Phulon ko tu bhut chahti
Phul bina pyasi reh jati
Phulon se tu ras hai bharti
Aur na jane kya kya karti
Kathhin parishrm tu hai karti
Maanav se tu bhot hai darti

-Servesh Kumar Marut

Advertisements