Hindi Poems on Life – अरमान


ये तुम्हारी कल्पना और बुद्धि का अंजाम है,
रास्ते हैं दो मगर वो एक ही पैगाम है ।
जब नहीं तुम जानते थे क्या ज़मीन क्या आसमान,
बंदगी जब थी नहीं क्यूं काफिरी बदनाम है।
आये थे जब वो तो आयी थी तुम्हारी इक किताब,
उससे पहले भी जहां में आदमी श्रीमान है।
उंगलियां अब मत उठाओ वक़्त का बदला मिज़ाज़,
था कभी वो वक़्त जब ज़िंदा चुना दीवार है।
कर दिया उसने कलम सिर बढ़ सकी न उसकी शान,
आज भी वो हम सभी के सीने में आबाद है।
मेरी नज़रों में सभी पैग़म्बरों की इक क़िताब,
मैंने देखी है ये गीता और वो कुरान है।
आदमी को आदमी से प्यार होना चाहिए,
इससे बढ़के बंदगी का न कोई फरमान है।
हम रहे या तुम रहो न कोई शिकवा न गिला,
फ़लसफ़ा इक हो ज़मीरी बस यही अरमान है।

– स्मृति तिवारी

Ye tumhari kalpana aur budhi ka anjaam hai
Raaste hai do magar wo ek hi pegaam hai
Jab nahi tum jante they kya jamin kya aasmaan
Bandgi jab thi nahi kyu kafiri badnaam hai
Aaye they jab woto aai thi tumhari ek kitab
Usse phale bhi aadmi jha me shrimaan hai
Ungliyaan ab mat uthao waqt ka badla mizaz hai
Tha kabhi wo waqt jab jinda chuna diwar hai
Kar diya usne kal seer badh saki na uski shaan
Aaj bhi wo hum sabhi ke sine me aabad hai
Meri nazron me sabhi pegambron ki ek kitab
Maine dekhi hai ye geeta aur ye kuran hai
Aadmi ko aadmi se pyar hona chahiye
Esse badke bandgi ka na koi farmaan hai
Hum rhe ya tum rho na koi shikwa na geela
Falsffa ek ho jamiri bs yhi armaan hai.

-Smriti Tiwari

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.