Hindi Poems on Childhood Memories- कभी मिलना उन गलियों में


कभी मिलना उन गलियों में
जहाँ छुप्पन-छुपाई में हमनें रात जगाई थी
जहाँ गुड्डे-गुड़ियों की शादी में
दोस्तों की बारात बुलाई थी
जहाँ स्कूल खत्म होते ही अपनी हँसी-ठिठोली की
अनगिनत महफिलें सजाई थी
जहाँ पिकनिक मनाने के लिए
अपने ही घर से न जाने कितनी ही चीज़ें चुराई थी
जहाँ हर खुशी हर ग़म में दोस्तों से
गले मिलने के लिए धर्म और जात की दीवारें गिराई थी
कई दफे यूँ ही उदास हुए तो दोस्तों ने
वक़्त बे वक़्त जुगनू पकड़ के जश्न मनाई थी
जब गया कोई दोस्त वो गली छोड़ के तो
याद में आँखों को महीनों रुलाई थी गली अब भी वही है
पर वो वक़्त नहीं, वो दोस्त नहीं हरे घास थे
जहाँ वहाँ बस काई उग आई है।

-सलिल सरोज

Kabhi milna un galiyon me kha
Chupan-chupai me hamne raat jgai thi
Jhan gude-guddiyon ki shadi mein
Doston ki barat bulai thi
Jhan school khtam hote hi apni hasi thitholi ki
Anginat mehfeele sjai thi
Jhan piknik mnanane ke liye
Apne hi ghar se na jane kitni hi chie churai thi
Jhan har khushi har gum mein doston se
Gale milne ke liye dharm aur jaat ki diware girai thi
Kai dafe yoon hi udas huye to doston ne
Waqt ve waqt jugnu pakad ke jashan mnai thi
Jab gya ki dost wo gali chod ke to
yaad mein aankhon ko mhino rulai thi gali ab abhi wahi hai
Par wo waqt nahi wo dost nahi hare ghas the
Jjhan whan bas koi uag aai hai

-Salil saroj

Advertisements

2 thoughts on “Hindi Poems on Childhood Memories- कभी मिलना उन गलियों में”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.