Tags

, , , , , ,


बे क़दरों  में रहे हम
क़दर हमे अपनी ही न थी
कदरदानों में जाके देखा
इतने बुरे तो हम भी नहीं
सजती है मेरी शिरक़त से आज महफ़िल
ऊँची ऊँची क्या पता था
ज़िन्दगी का तज़ुर्बा यह मुक़ाम देगा
दौर हम पे ऐसे भी गुज़रा है
ए हसीन जब बाजार से आँख भर कर
खाली  हाथ लौट आये करते थे हम


Be qadron main rahe hum
Qadar hume apni hi na thi
Qadrdano main jake dekha
Itne bure toh hum bhi nahi
Sajati hai meri shiraqt se aaj mehfheel
Unchi unchi kya pata tha
Zindgi ka tazurba yeh muqam dega
Daur hum pe aisa bhi guzara hai
Aye haseen jab bazaar se aankh bhar kar
Khali haath laut aya karte the hum

Advertisements