Hindi Poem on Death-अन्तिम विदाई


आज ले ली है विदाई किसी ने अपने परिवार और जहान से
पूरी हुकूमत थी उनकी जग में जीना  आता था उन्हें शान से
आज ले ली है विदाई किसी ने अपने परिवार और जहान से।
बस यादों में रह गया बसेरा बड़ी दूर हो गया घर अब तेरा
फिर नहीं होगा मेरे घर तेरा फेरा सपनों में याद आएगा
हमको बस एक तेरा चहरा बस यादों में रह गया बसेरा
बड़ी दूर हो गया घर अब तेरा। दिल का आँगन कर गये सुन्ना
तुम तो थे बरगद का पौधा हम सब तो थे इसका तना
शांति दे आत्मा को तुम्हारी प्रर्थाना करेगें उस भगवान से
आज ले ली है विदाई किसी ने अपने परिवार और जहान से।

– गरीना बिश्नोई

Aaj le li hai  Vidai kisi ne apne  pariwaar aur jhaan se
Puri Hukumat thi unki jung mein jina aata tha unhe shaan se
Aaj le li vidai kisi ne apne pariwar se aur jhaan se
Bas yaado mein reh gaya basera badi dur ho gya ab ghar tera
Fir nai hoga mere ghar fera sapno mein yaad aayega
Humko bas ek tera chehara bas yaadon mein reh gaya basera
Badi dur ho gya ghr tera dil ka aagain kar gye suna
Tum to they bargad ka podha hum sab to they eska tana
Shanti de aatma ko tumhari prathana krege us bhagwaan se
Aaj le li hai vidai kisi ne apne pariwaar aur jhaan se

-Garina Bishnoi

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.