Tags

, , , , , ,


 

हां मैंने देखा है खुदा को कूड़े के ढेर पर कचरा बिनते
मासूम बच्चो के हसीं सपनो में हां मैंने देखा है
खुदा को बड़ी सी कोठी में अकेली लेटी
बेबस माँ की चेहरे की झुर्रियों में हां मैंने देखा है
खुदा को मौत की छाती पर जंग लड़ते
सिपाही के हौसलों में हां मैंने देखा है
खुदा को निस्वार्थ परोपकार में जिंदगी लुटाते
अनगिनत सज्जनो के भावो में हां मैंने देखा है
खुदा को थके हुए मुसाफिर के अडिग चाल में
हां मैंने देखा है खुदा को मुश्किलों से लड़ते
हर उस शख्स में जिसने कभी उम्मीद नहीं छोड़ी
जिसने कभी हार नहीं मानी जिसने त्याग से,
बलिदान से जिंदगी को नए मायने दिए
समाज को ,धर्म को ,राष्ट्र को अपनी खुशबु से
महकाया अपनी रौशनी से उज्जवल किया हां
मैंने देखा है खुदा को ……..

– जितेंद्र जैन 

Haan mene dekha hai khuda ko kude ke dheir pe kachara binte
Masoom bachon ke hasin sapno mein hanmene dekha hai
Khuda ko badi si kothi me akeli leti
Bebas maa ki chehre ki jhuriyaan mein haan menee dekha hai
Khuda ko maout ki chati par jung ladte
Sipahi ke hoslon mein haan mene dekha hai
Khuda ko niswarth propkaar mein zindgi lutate
Anginat sajanno ke bhavo mein haan mene dekha hai
Khuda ko thake hue musafir ke aadig chal mein
Haan mene dekha hai khuda ko mushliyon se ladte
Har us shkas mein jisne kabhi umid nahi chodi
Jisne kabhi haar nahi mani jisne tyaag se
Balidaan se zindagi ko naye mayne diye
Samaj ko dharam ko rashtra ko apni khushbu se
Mhkaya apni roshni se ujwal kiya hai haan
Mene dekha hai khuda ko…

-Jitendra Jain

Advertisements