Tags

, , , , , , ,


पवित्र जिसकी कामना
उसका अतुल्य मोल है
अर्पण हुए जो प्रेम से
वह दान भी अनमोल है ।

चित्त हर्ष से दिए दान से
स्वच्छंद हो ये आत्मा
बङभाग उसके हैं
बहुत जिसको मिला परमात्मा ।

इच्छाएं पनपे मन में
दिए दान का जो बखान हो
फिर मिलेगा फल कहाँ
व्यर्थ ही सब काम हो ।

दान वही साकार है
जिसमें अहम का नाश हो
छल-कपट न हो
जहाँ चित्त प्रेम का ही दास हो ।

-मुकेश नेगी

Pavitra jiski kamana
Uska atulya mol hai
Arpan hue jo prem se
Veh daan anmol hai

Chit harsh se diye daan se
Svachhand ho ye aatama
Badbhag uske hai
Bahut jisko mila Parmatama

Icchayein panpein man mein
Diye daan ka jo bakhan ho
Fir milega fal kahan
Vyarth hi sab kaam ho

Daan wahi sakaar hai
Jisme inaham ka nash ho
Chhal kapat na ho
Jahan chit prem ka hi daas ho

-Mukesh Negi

Advertisements