Tags

, , , , , , , , , , , , ,


चौराहा राह भटक गए राह भटकते है
चौराहे भी आये जो मन को खटकते है।
एक रास्ता हो तो चले,आखिर कितने रास्ते चले।
मंजिल भी तो तय नही, किसके वास्ते चले।
इस चौराहे के हर रास्ते अलग मंजिल दर्शाते हैं।
कुछ लोग तो मंजिल पहुंचकर भी वापस लौट आते है।
ये अनजाने रास्ते मन को खटकते है।
राह भटक गए राह भटकते है।
ये अनजाने रास्ते और और कई सारे है
इनमे चलते चलते चलते हां… हम हारे है।

एक रास्ता,दो रास्ते राहगीर को परेशान कर देती राहे है।
मंजिल सामने फिर भी उसे ढूढती निगाहे है।
इन निगाहों कि तड़प को जानता है
हम सच भी कहे कौन मानता है
इस मंजिल को देखने के लिए आँखे तरसती है
कभी कभी तो बादलो की तरह बरसते है
वो तब जब राह भटकते है

चौराहे भी आये जो मन को खटकते है।
जिंदगी चार दिन की है चलते चलते गुजर जाएगी
जब हम आपसे दूर हो जाएंगे तब हमारी याद आएगी
मेरी चाहत बदलो सी है जिन्हें राहत मिलती नही ।
और मुस्कान……….. मुस्कान है
कांटो सी जो कभी खिलती नही।
कई तरह के सपने लेकर चैराहे में खड़े है।
कौन सा रास्ता सही रहेगा इसी सोच में पड़े है।
मंजिल डर नही हमारी मजबूरी है
एक रास्ता चुनना और उसमें चलना भी तो जरूरी है।

-संतोष

Chauraha raah bhatak gye raah bhtakte hai
Chauraha bhi aaye jo man ko khatkte hai
Ek rasta ho to chle, aakhir kitne raste chle
Manzil bhi tay nahi kiske vaste chale
Es chaurahe ke har raste alag raste alag manzil darshate hai
Kuch log to manzil phuch kar bhi bapis laut aate hai
ye anjane raste man ko khatkte hai
Raahbhatak gye raah bhatkte hai
Ye anjane raste aur kai sare hai
Enme chalte chalte haan hum hare hai

Ek rasta, do raste rahgeer ko pareshan kar deti hai
Rahe hai manzil samne fir bhi use dhundti nigaahe hai
En nigahoon ki tadap ko janta hai
Hum such bhi kahe kon manta hai
Es manzil ko dekhne ke liye aankhei tarsti hai
Kabhi to badlon ki tarh barsti hai
Wo tab jab raah bhatkte hai

Chaurahe bhi aaye jo man ko khatkte hai
Zindagi char din ki hai chalte chalte guzar jayegi
Jab hum aapse dur ho jayenge tab humari yaad aayegi
Meri chahat badlon si hai jinhe rahat milti nahi
Aur muskaan muskaan hai
Kanton si jo bhi khilati nhi
Kai tarh ke sapne lekar chaurahe me khade hai
Kon sa rasta sahi rhega yahi soch me pade hai
Manzil dar nahi hmari majburi hai
Ek rasta chunna aur chalna bhi to jaruri hai

-Santosh

Advertisements