Tags

, , , , , ,


बात-बात में यूँही कभी पूछा किसी ने,
कि क्या होती है कीमत, कविता की ज़िंदगी मे,
अचानक से पूछे इस प्रश्न पर, मैं कुछ उलझा,
कुछ हँसा, कि नर है ये नादान या निरा मूर्ख है।
शायद नहीं जानता कि कविता ही इसका मूल है,
जब से नर ने जन्म लिया जन्म मरण कई बार हुआ,
किन्तु रूप मिला तुझे कविता का, सदैव नया होगा।
खुद कविता बनता जा रहा नर,
पूछता है कीमत कविता की,
कभी खुद पर भी तो गौर कर,
क्या कीमत है तेरी माटी की सत्ता की।
पल पल गुज़र रहा है तू ,
गुज़र जाएगा एक दिन,
पर कविता फिर भी मिलेगी अनवरत,
तब हैसियत तेरी कीमत चुकाने की न होगी।

-मयंक गुप्ता

Baat baat mein yuhi kabhi phucha kisi ne
Ki kya hai hai kimat,kavita ki zindgai mein
Achanak se phuche es parshaan par mein kuch uljha
Kuch hsa ki nar hai ye nadan ya nira murakh hai
Sayad nahi janta ki kavita hi eska mul hai
Jab se nar ne janam liya janam maran kai bar hua
Kintu roop mila tujhe kavita ka,sdeiv nya hoga
Khud kavita bnta ja rha nar
Phuchta hai kimat kavita ki
Kabhi khud par bhi to gaur kar
Kya kimat hai terimatti ki stah ki
Pal pal gujar rha hai tu
Gujar jayega ek din
Par kavita fir bhi milegi anvrat
Tab hasiyat teri kimat chukane ki na hogi

-Mayank Gupta

Advertisements