Hindi Poem on Soldier-सैनिक


त्यागकर अपना घर-परिवार और सुख चैन
एक पल भी नहीं रिश्ते जिसके नैन
कड़ी धूप,बारिश और
कंपकंपाति सर्दी में
सजग खड़ा है सैनिक
देश की सुरक्षा में
इसीलिये देश में मनती है
होली, दिवाली और रमजान है
बेफिक्र खेलता बचपन और
खुशियाँ मनती जवानी है
उपवन में मंडराते भँवरे और
खेतों में खुशहाली है
क्योंकि दुशमन के इरादों को
उसने नेस्तनाबूत कर रखा है
जाओ चैन से सो जाओ
यारों सरहद पर देश का जवान
सिर पर कफन बाँधकर खड़ा है
सिर पर कफ़न बाँधकर कर खड़ा है ।
अनुपमा ठाकुर

Tyagkar apanaa ghar-parivaar aur sukh chain
Ek pal bhi nahi rishate jiske nain
Kadi dhoop,baarish aur
Knpakpaati sardi mein
Sajag khadaa hai sainik
Desh ke surakṣha mein
Isliye desh mein manate hai
Holi, diwali aur ramajaan hai
Befikar khelta bachapan
Aur khushiyaan manate jawani hai
Upavan mein mandrate bhanware aur
Kheton mein khushahaalee hai
Kyonki dushaman ke iraadon ko
Usane nestanaboot kar rakhaa hai
Jao chain se so jao
Yaaron sarahad par desh kaa javaan
Sar par kafan baandhakar khadaa hai
Sar par kafan baandhakar kar khadaa hai
-Anupama Thakur

Advertisements

2 thoughts on “Hindi Poem on Soldier-सैनिक”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.