Tags

, , , , , , ,


सूखे पत्तों को जलाकर क्या बताना चाहते हो
हम में कितनी फूट है क्या यह जताना चाहते हो ..

मीठी तुम्हारी जुबां पे मज़हब और जात पात है
शहद मिलiकर क्या ज़हर पिलाना चाहते हो …

बड़ी खामोश हूँ फिर भी हूँ बहुत बुलंद
में कलम की आवाज़ हूँ मुझ को दबाना चाहते हो …

तुम्हारे हर फरेब को कर दूंगा बेपर्दा …
चढ़ा दो जितने भी नकाब चढ़ाना चाहते हो …

में अखबार हूँ इंक़लाब ला सकता हूँ …
फखत कागज़ नहीं जो छुपाना चाहते हो ….

हर तरह के फूलों से है ये चमन बना …
खोद कर जड़ें क्या गुलिस्तां बसना चाहते हो …

टूटने नहीं दूंगा यह मुल्क मेरा घर है
लगालो ज़ोर जितना लगाना चाहते हो ….

– राजन उज्जैनी 

Sukhe patton ko jala kar kya batana chahte ho
Hum mein kitni fut hai kya jatana chchte ho

Mithi tumhari jubab pe majhab aur jaat paat hai
Shad mila kar kya jahar pilana chhate ho

Badi khamosh hoon par fir bhi hoon buland
Mein kalam ki aawaj hoon mujh ko dabana chahte ho

Tumhare har fhrev ko kar dunga beparda
Chdha do jitne bhi nkab chadana chahte ho

Mein akhbar hoon ekbaal la sakta hoon
Fakhat kagaz nahi jo chupana chahta ho

Har taraf ke phoolon se hai ye chaman bna
Khaud kar jad kya gulistaan basana chahte ho

Tutne nahi dunga yeh mulak mera ghar hai
Lagalo jor jitna lgana chahte ho

-Rajan Ujjaini

Advertisements