Hindi Poem on Book – मैं एक किताब हूँ


तो अम्बर सी ऊंचाई भी है,
एक ख्वाबों की दुनिया है
तो अत्यधिक सच्चाई भी है
इतिहास समेटू चंद पन्नों पर
तो आज का आइना भी दिखलाऊँ मैं,
रहती हूँ खामोश तो अक्सर
मगर भविष्य भी बन जाऊँ मैं
हर विकास की जड़ भी मैं
तो समस्त शिक्षित की नींव हूँ,
किसी के लिए समस्या बनूँ
तो किसी के लिए समाधान भी हूँ
व्यक्त न हो पाएं जज़्बात जो
उनके लिए वक्ता भी हूँ,
हर पीड़ा की दवा हूँ
तो हर धनवान का स्त्रोत भी हूँ
परम मित्र भी बन जाऊँ मैं
सर्वश्रेष्ठ सलाहकार हूँ,
अकेलेपन की साथी भी हूँ
हाँ, ऐसी मैं एक किताब हूँ 

-आकांक्षा भटनागर

To ambar si unchai bhi hai,
Ek khwaabon ki duniya hai
To atyadhik sacchai bhi hai.
Itihaas sametu chand panno par
To aaj ka aaina bhi dikhlau main,
Rehta hun khamosh to aksar
Magar bhavishya bhi ban jau main.
Har vikas ki jad bhi main
To samast sikshit ki neev hun,
Kisi ke liye samasya banu
To kisi ke liye samadhan bhi hun .
Vyakt na hopaye jazbaat jo
Unke liye vaktaa bhi hun,
Har peed ki dava hun
To har dhanban ka strot bhi hun.
Param Mitra bhi banjau main
Sarvshresth salahkar hun,
Akelepan ki sathi bhi hun
Haan , aise main ek kitab hun.

-Akanksha Bhatnagar

2 thoughts on “Hindi Poem on Book – मैं एक किताब हूँ”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.