All posts by anushkasuri

Writer, Marketer, Singer, Motivator, Educator, Poet, Blogger, Author, Editor, Researcher who is following her passion in life.

Hindi Poem on Mother-ओ माँ तुझे सलाम


भगवान का सबसे सुन्दर वरदान हो तुम maa
माँ मेरे लिये तो सारा जहान हो तुम
मुझे अच्छाई का पाठ पढ़ाती
सच्चाई की राह पर मुझे चलाती
रात को लोरी गा कर मुझे सुलाती
सुबह प्यार से मुझे जगाती
मेरे लिये बढिया पकवान बनाती
करूँ जो शरारत तो डांट लगाती
मेरी खुशियों की खातिर करती हो सब कुछ कुर्बान
ओ माँ तुझे सदा है मेरा सलाम

Advertisements

Hindi Poetry on Red Rose – गुलाब का फूल


आशिक़ों के महबूब के पैरो की धूल हूँ  Red Rose

हाँ मैं एक लाल गुलाब का फूल हूँ

होठों जैसे पंखुड़ियाँ मेरी कोमल

काँटों से बच के ज़रा कहीं हो न जाओ घायल

मैं तोहफा बनकर पहुँच जाता हूँ जहाँ

मुझे देख मुस्कुरा देता है सारा जहां

-अनुष्का सूरी

Hindi Poem on Money – मैं हूँ धन


काग़ज़ का एक छोटा सा टुकड़ा हूँ मैं  Money
पर दुनिया पर राज करता हूँ
कभी किसी की मुठ्ठी में
कभी किसी की जेब में मैं बसता हूँ
कभी मंदिर में चढ़ाया जाता
कभी बैंक में मैं जमा हो जाता
कभी सेठ की तिजोरी मैं भरता
कभी गरीब की रोटी का इंतज़ाम हूँ करता
हाँ सही सोचा तूने ओ मन
मैं हूँ वही – धन

-अनुष्का सूरी

Hindi Poem on Peacock Bird-मोर


peacock-2639169_960_720.jpg

खोलूँ जब पंख अपने
और बरसात में नाचूँ ज़ोर ज़ोर
हूँ मैं बड़ा चित्‍त चोर
हाँ मैं हूँ मोर
पक्षियों का मैं कहलाता हूँ राजा
मुरलीधर के मुकुट को मैं ही सजाता
हाँ मैं वही मोर हूँ

-अनुष्का सूरी

Kholu jab pankh apne

Aur barsaat mein nachu zor zor

Hoon main bada chitt chor

Haan main hoon mor

Pakshiyo ka main kehlata hoon raja

Murlidhar ke mukut ko main hi sajata 

Haan main wahi mor hoon

English Translation:

When I open my wings

And dance enthusiastically in the rain

I am a renowned heart thief

Yes, I am peacock

I am called the king of birds

I decorate the crown of Lord Krishn

Yes, I am the same peacock

Basant Panchmi Hindi Poem – आया बसंत


देखो देखो है आया बसंत Basant Panchmi

अब हो जायेगा पाला अंत

चारों तरफ फूलों की चादर बिछी है

कितनी सुन्दर ये धरती सजी है

पीले रंग की है छाई बहार

मुबारक हो आपको बसंत पंचमी का त्यौहार

-अनुष्का सूरी