Category Archives: Hindi poem on India

Hindi Poem on – बोलो मेरे मन मै क्या लिखूँ

city-view-1427730_960_720

बोलो मेरे मन मै क्या लिखूँ
आज मै कुछ लिखना चाहती हूँ
मन में विचारोंका बाढ़ आया
मैंने अपने मन से कुछ सवाल पूछे
यह सवाल मै आपसे बांटना चाहती हूँ
बोलो मेरे मन मै क्या लिखूँ
समाजमे बढ़ते भ्रश्टाचार पे लिखूँ
या आतंकवाद के बढ़ते गतिविधियों पे लिखूँ
प्राकृतिक आपदाओं के बारें में लिखूँ
या दिनोंदिन बढ़ते प्रदूषण पे लिखूँ
कश्मीर में भड़की ज्वालाओं पे लिखूँ
सूख रही नदियाँ और तपती धरती माँ पे लिखूँ
इंसान का मंगल पे बनाते घरों पे लिखूँ
या इंसान की जीत और मौत के हार पे लिखूँ
बोलो मेरे मन मै क्या लिखूँ
शिक्षा में घुलती राजनीति पे लिखूँ
आकाश को छूती महंगाई पे लिखूँ?
सीमा पे लढती जवानों पे लिखूँ?
या युवकों के बेरोजगारी पर लिखूँ?
बोलो मेरे मन मै क्या लिखूँ
आत्महत्या करनेवाले उन किसानों पे लिखूँ
या बच्चा गोद में लिए भीख मांगती उस भिकारिन पे लिखूँ
वृध्धाश्रम में आखरी सास लेती उस माँ पे लिखूँ
या नन्हे को कूढेमे छोड़कर जाती हुई उस माँ पे लिखूँ
बोलो मेरे मन मै क्या लिखूँ?
दिनदहाड़े लड्कियोंपे होते एसिड्वार पे लिखूँ
कामकाजी महिलाओं के समस्याओं पे लिखूँ
चाहतिहूँ कोई प्रेम कहानी लिखूँ
या प्रकृतिकी सुन्दर चित्रकारी पे लिखूँ
बोलो मेरे मन मै क्या लिखूँ
जिंदगी की गहराई और मौत की सच्चाई पे लिखूँ
ख़त्म होती इंसानियत , आत्मीयता पे लिखूँ
बागोंमे खिलति, खुशबू बिखरती सुन्दर फूलों पे लिखूँ
फूलों पे उडती, रंगबिरंगी तितलियों पे लिखूँ
बोलो मेरे मन मै क्या लिखूँ?
दोस्तों मै इस तरह सोचती रही, सोचती रही
अपनेही विचारों में खोयी रही, अपने मन से पूछती रही
माफकरना दोस्तों कोई शब्द न मिले, मै कुछ भी न लिखपाई, कुछभी न लिखपाई

–डॉ. सौ. प्रसन्नारानी तन्निरु

Bolo mere man kya likhu
Aaj main likhna chahti hoon
Man mein vicharo ka vaad aaya
Maine apne man se kuch swal phuche
Yeh swal main aapse baantna chahti hoon
Bolo mere man mein kya likhu
Smaj mein badhte bhrtachar pe liku
Ya aatnbaad ke badti galtividiyo pe likhu
Prakrtik aapdao ke bare mein likhu
Ya dino din badhte pardushn pe likhu
Kashmir mein bhdki jwalao pe likhu
Sukh rhi nadiyon aur tapti dharti ma pe likhu
Insaan ka mangal pe bnate ghro p likhu
Ya insaan ki jeet or mauot ki haar pe likhu
Bolo mere man me kya likhu
Sikhsha mein ghulti rajniti pe likhu
Aakask ko chhuti mehngai pe likhu
Sima pe ladti jawani pe likho
Ya yuvko ki berojgari p likhu
Bolo mere man mein kya likhu
Aatmhtya krne walo un kisano pe likhu
Ya bacha god mein liye bhikh mangti us bikharn pe likhu
Din dihade ladkiyon pe hote acid war pe likhu
Kaam kaji mhilaon ki samsyaon pe likhu
Chahti hu koi prem khani likhu
Jindgi ki ghrai aur mout ki sachai likhu
Khtam hoti insaniyat aatmiyta pe likhu
Bago mein khilti khusbu bikharti sundar phulon pe likhu
Pholon pe udti rang birangi titliyon pe likhu
Bolo mere man mein kya likhu
Dostonn mein es tarh sochti rahi
Apne hi vicharo mein khoi rahi apne hi man se phuchti rahi
Maaf krna dosto koi sawad na mile
Main kuch likh na pai
Kuch bhi na likh pai

 

Hindi Poem on Politics and Power – सियासत एक जंग

bharat1

सियासत से आजाद हुआ भारत देश
आज सियासत मे उलझ रहा है
कभी गुलामी एक दौर बनकर गुजरा
आज असहिष्णुता का दौर चल रहा हैै।

भारत जाना जाता था अनेको नाम से
आज ‘हिन्दुस्तान’ न बोलने को कह रहा है
अनेको नारे लगाते थे लोग इस देश मे
आज ‘भारत माता की जय’ बोलने पर लड रहा है ।

कोई अखबारो मे छा चुका है
कोई छाने का प्रयास कर रहा है
खुद तो कुछ कर नही सकता
जो करता है उसकी आलोचना कर रहा है ।

कोई दुनिया के दौरे पर है
तो कोई भारत दौरे पर घुम रहा है
कोई अनेको योजनाएंं ला चुका है
तो कोई उन योजनाओ पर बहस कर रहा है।

कोई आरक्षण के खिलाफ लड़ रहा है
कोई आरक्षण के लिए लड़ रहा है
आन्दोलनो से घिरा है अपना देश
पूछता है आखिर क्या चल रहा है।

किसकी तारीफ और किस की बुराई करुं
यहां तो हर कोई अपना काम कर रहा है
यह सब देखकर इतना तो कह सकता हूं
भारत में सरेआम ‘fogg’ चल रहा है।

-नीरज चौरसिया

Siyatsat se aajad hua bharat deish
Aaj siyasat me uljh rha hai
Kbhi gulami ek daur bn kr gujra
aaj ashishnuta ka daur chal rha

Bharat jana jata tha aneko nam se
Aaj hindustaan na bolne ko kh rha hai
Aneko nare lgate they es deish me
Aaj bahrat mata ki jai bolne pr lad rha hai

Koi akhbaro main cha chuka hai
Aneko nare lgate they es deish me
Aneko nare lgate they es deish me
Aaj bahrat mata ki jai bolne pr lad rha hai

Koi duniya k daurei par hai
To koi bharat daurei pr ghum rha hai
Koi aneko yojnaye la chuka hai
To koi un yojnao pr bhas kar rha hai

Koi aarkshan k khlaf lad rha hai
Koi aarkhshan k liye lad rha hai
Aandolano se ghira hai apna deish
Phuchta hai aakhir kya chl rha hai

Kiski tarif aur kis ki burai krun
Yha to koi apna kam kr rha hai
Yh sb dekh k etna to kh skta hu
Barat me sreaam “fogg” chl rha hai

– Niraj Chaurasiya