Category Archives: Hindi Poems

Hindi Poem on Duckduckgo Search Engine- डक डक गो सर्च इंजन


duckduckgo-search-engine

नया नया सर्च इंजन आया
डक डक गो है नाम बताया
ये कहते हैं गूगल छोड़ो
हमसे तुम अब नाता जोड़ो
ये नहीं चुराते यूजर डेटा
चाहे कुछ भी खोजो बेटा
ख़बर जान कर यह तमाम
खोला हमने डकडकगो डॉट कॉम
इसपर भी खोजना है आसान
क्या ये होगा गूगल से बलवान
यह तो बताएगा समय खैर
तब तक करें इंटरनेट की सैर
-अनुष्का सूरी

How to read above poetry text in Hindi:

Naya naya search engine aya

Duck Duck Go hai naam bataya

Ye kehte hain Google chodo

Hamse tum ab nata jodo

Ye nahi chart user data

Chahe kuch bhi khojo beta

Khabar jaan kar yah tamaam

Khola hamne duckduckgo.com

Is par bhi khojna hai asaan

Kya ye hoga Google se balwan

Yah to batayega samay kher

Tab tak karein internet ki sair

-Anushka Suri (Author of the poem)

English translation (meaning of the poetry text):

A new search engine has come up

It is named as “Duckduckgo”

The search engine brand says stop using Google

And start using us instead

We do not steal user data

You can privately search anything on Duckduckgo

After the news broke to me

I decided to visit Duckduckgo.com

I found it user friendly as it was easy to search here like Google

Will this search engine be more powerful than Google?

Only time will reveal this

Till it does, please enjoy browsing the net!

 

Advertisements

Hindi Poem on Makar Sakranti-मकर सक्रांति का शुभ दिन


मकर सक्रांति का शुभ दिन है आज
सूर्य देव को करेगा नमन मानव समाज
चहुँ ओर नन्हे बच्चों की टोली चलेगी
कहीं मिठाई तो कहीं हलवा पूरी तलेगी
गंगा तट पर कुम्भ मेला सजेगा
श्रद्धा युक्त दिव्य प्रेम बढ़ेगा
आकाश में पतंगों की होगी होड़
दान कर्म होगा सब मृग तृष्णा छोड़
आओ हम भी करें आज यह प्रण
करेंगे प्रभु को निश्छल समर्पण
-अनुष्का सूरी

How to read:

Makar Sakranti ka shubh din hai aj

Surya Dev ko karega naman manav samaj

Chahu or nanhe baccho ki toli chalegi

Kahin mithai to kahin halwa puri talegi

Ganga tat par Kumbh Mela sajega

Shradha yukt divya prem badhega

Akash mein patango ki hogi hod

Dan -karm hoga sab mrig trishna chod

Ao ham bhi karein aj yah pran

Karenge Prabhu ko nishchal samarpan

-Anushka Suri

English Translation:

It is the auspicious day of Makar Sakranti today

The entire human fraternity will worship Lord Sun today

Groups of young kids will wander on streets

Some places will serve sweets, while others will prepare halwa -poori (pooris are fried in oil or ghee)

Kumb Fair will be organized on the banks of River Ganges

Divine love based in strong faith will grow

Kite flying contests will flood the sky

People will engage in charity while leaving greed for materialistic objects such as wealth and property

Let us take a pledge today

We will surrender selflessly to the Supreme Lord

 

 

 

Hindi Poems on Emotions- कायर जिसे समझा


कायर जिसे समझा जाँबाज निकला
उसका अलग ही अंदाज निकला

बेचता रहा जो उम्र भर दवाइयाँ
बुढ़ापे में दवा को मोहताज निकला

ईमानदारी का ढिंढोरा पीटने वाला
खुद बेईमानों का सरताज निकला

जिसे हमने जहर समझकर फेंक दिया
हमारी बीमारी का इलाज निकला

मारे जाओगे अगर सत्ता के विरुद्ध
मुख से एक भी अल्फाज निकला

गैर को बदनाम मत कर ‘राहुल’
अपना ही अक्सर दगावाज निकला

  • राहुल रेड

Hindi Poems on Motivation – भँवर में सही


भँवर में सही कश्ती को मोड़कर तो देखो
बारिश में पैर जमीं पे गड़ाकर तो देखो

कुछ भी है मुमकिन अगर ठान लें हम सब
हाँथ समानता की ओर बढ़ाकर तो देखो

भेदभाव ख़त्म कर अब अपनी बेटी को
शिक्षा के शिखर पर चढ़ाकर तो देखो

हुनर है इनमे दुनियाँ को बदलने का
बेटियों को बेटों सा पढ़ाकर तो देखो

हैं इनमे सुनीता और कल्पना सी उड़ान
इनके पंखो को फड़फड़ाकर तो देखो ।

– राहुल रेड

Bhanvar mein sahi kashti ko modkar to dekho
barish mein pair zamin pe gada kar to dekho

Kuch bhi hai mumkin agar thaan le hum sab
Hath smanta ki oor badha kar to dekho

Bhed bhav khatam kar ab apni beti ko
Shiksha ke shikhar par chadha kar to dekho

Hunar hai inmein duniya ko badalne ka
Betiyon ko beto sa padha kar to dekho

Hai inmein sunita aur kalpana si udaan
Inke pankhon ko fadfada kar to dekho

– Rahul Red

Hindi Poems on Emotions – बदनामी


 

महफ़िल सजा ली यारों की, तो हुई बदनामी
बगिया खिला ली बहारों की, तो हुई बदनामी
यह कैसा समाज, जो बदनाम करता फिरता है?
मदद कर दी बेसहारों की, तो हुई बदनामी।

किसी पे दिल अगर ये मर लिया, तो हुई बदनामी
बाँहों में किसी को भर लिया, तो हुई बदनामी।
बदनामी के दौर में भला कौन है बदनाम नही?
कभी प्यार किसी से कर लिया, तो हुई बदनामी

अगर आजदी से घूम लिया, तो हुई बदनामी
महफ़िल में कभी झूम लिया, तो हुई बदनामी
प्रेम को बदनाम कर दिया जालिमो ने इतना
माथा जो उसका चूम लिया, तो हुई बदनामी।

रोकूँ कैसे यारों आज होने से बदनामी?
स्याही के कुछ दाग भी धोने से बदनामी
जिसको पाकर बदनाम ही बदनाम हुआ हूँ
छोड़ दूँ अगर साथ उसे खोने से बदनामी।

जब ज्यादा हो पैसा, तो होती है बदनामी
चाहें गरीब हो कैसा, तो होती है बदनामी
जब बदनामी का दौर है, फिर मैं कैसे बचूँ?
हो इन्शान मेरे जैसा, तो होती है बदनामी।

अक्सर समाज में हर जगह मिलती है बदनामी
बहारों में भी फूल की जगह खिलती है बदनामी
कोई बताये वो जगह, जहाँ होतीं ना बदनामी
जिधर देखो हर जुबान से निकलती है बदनामी।

कांटे नही उससे बढ़कर है सुई बदनामी
हवा से हल्की उड़ने वाली रुई बदनामी
जितना खुद को रोका बदनाम होने से
उतनी ज्यादा और अक्सर हुई बदनामी।

– राहुल रेड

Mehfil sja li yaron ki, to hue badnami
Bagiya khila libaharon ki to hue badnam
Yeh kesa smj hai jo badnaam krta firta hai
Madd kar di besharon ki to hue badnam

Kisi pe dil ye mar liya to hue badnami
Bahon me kisi ko bhr liya to hue badnami
Badnami k dor me bha kon hai bad man nahi
Kabhi pyar kisi se kar liya to hue badnami

Agar ajadi se ghoom liya to hue badnami
Mehfil me kabhi jhoom liya to hue badnami
Prem ko badnam kar diya jalimo ne etna
Matha jo uska chum liya to hue badnami

Roku kese yaron aaj hone se badnami
Syahi k kuch daag dhone se badnami
Jisko pa kar badnaam hi badnaam hua hoon
Chor du aggr sath use khone se badnami

Jab jyada ho pesa to hoti hai badnami
Cahe garib ho kesa to hoti hai badnami
Jab badnami ka daur hai fir main kese bachu
Ho insaan mere jesa to hoti hai badnami

Aksar smaj me har jagh milti hai badnami
Baharon me bhi ful ki jagh khilti hai badnami
Koi btaye wo jgh jha hoti na badnami
Jidhr dekho har jubann se niklti hai badnami

Kate nahi usse badkar hai sui badnami
Hwa se halki udne wali rue badnami
Jitna khud ko roka badnam hone se
Utni jyada aur aksr hue badnami

– Rahul Red