Patriotic Hindi Poem- जय भारत

जय भारत जय,जय भारत जय, जय भारत जय
माँ हिमालय मुकट सोहे तेरे चरण धोए
गंगा चारो ऋतु सी तेरी चुन्नरी को चाँद-तारे सजाए माथे पर
सूरज की बिंदिया शोभा तेरी बढाए बाए तेरे ऊचे टीले दाए
ऊचे पर्वत तेरे आँचल सारी नदियां नीर बहे जैसे शरबत 
जल,थल, वायु तेरे भीतर खड़े तेरे पहरे लगाए
हिन्दू मुस्लिम सिख इसाई तेरे आगे शीश झुकाए
सब भाषाएं तेरी गीता हर रोज तुझे सुनाए डाले
अगर बुरी नज़र जो सबक उसे सिखाए
जय भारत जय ,जय भारत जय,जय भारत जय
माँ हिमालय मुकट सोहे तेरे चरण धोए गंगा।

–गरीना बिश्नोई

Jai Bharat jai, jai Bharat jai,jai Bharat jai,
Maa Himalaya mukut sohe tere charan dhoye
Ganga charon ritu si teri chunnari ko chaand tare sajaye mathe par
Suraj ki bindiya shoba teri bdaye baye tere uche tile daye
Unche parvat tere aanchal sari nadiyaan neer bahe jese sarbat
Jal, thal, vayu tere bheetar khade tere pahre lagaye
Hindu Muslim Sikh Isayi tere aage shis jhukaye
Sab bhashaye teri geeta har roz tujhe sunaye dale
Agar buri nazar sabak use sikhaye
Jai Bharat jai, jai Bharat jai,jai Bharat jai,
Maa Himalaya mukut sohe tere charan dhoye

-Greena Bishnoi

Hindi Poem on Mobile-समार्ट फोन

समार्ट फोन

दुनिया के हाथों में कमान देख लो
ऊँगलियों पे नाचता जहान देख लो
आँखों में सुलगते अरमान देख लो
कदमों में उठते तूफ़ान देख लो
भिखरते रिश्तों के परवान देख लो
टूटे दिलों पे निशान देख लो
लुटता अपनों का सम्मान देख लो
सिमटते दायरों की पहचान देख लो
मुठ्ठी में बंद जहान देख लो
बदलती जिन्दगी का इम्तिहान देख लो
दुनिया के हाथों में कमान देख लो
ऊँगलियों पे नाचता जहान देख लो।

-गरीना बिश्नोई

Duniya ke hathon me kaman dekh lo
Ungaliyon me nachat jahaan dekh lo
Aankhon me sulagta arman dekh lo
Kadmo me utthta tufaan dekh lo
Muthi me band jhaan dekh lo
Bikharte rishto ka parwan dekhlo
Tutey dilon ke nishaan dekh lo
Luta apno ka smaan dekh lo
Badalti zindagi ka imtihaan dekh lo
Simattey dayaro ki pehchaan dekh lo

-Greena Bishnoi

Amazing Hindi Poetry Collection

%d bloggers like this: