Hindi Poems on Father’s Day-भगवान के जैसा धरती पर

भगवान के जैसा
धरती पर ही
मिलता है जो वो
कहलाता है पिता

थाम के उंगली जब पहली बारी
उसके जिगर का टुकड़ा चला
एहसास ये उसके जीवन में जैसे
ख़ुशियों का मेला सजाता चला
जिस प्यार का कोई मोल नहीं
उस प्यार को है निभाता पिता

अपने दुखों को भूल ही जाता
देख के सारे दुःख को मेरे
मेरी हंसी के लिये खुद ही देखो
बन जाता है वो खिलौना मेरा
एक ओर चाहे दुनिया कहे कुछ भी
हमेशा तेरे संग चलता पिता

भगवान के जैसा
धरती पर ही
मिलता है जो वो
कहलाता है पिता

-शुभाशीष उपाध्याय

Bhagwaan ke jaisa
Dharti par hi
Milta hai jo wo
Kehlaata Pita

Thaam ke ungli jab pehli baari
Uske Jigar ka tukdaa chalaa
Ehsaans yeh uske jeevan mein jaise
Khushiyon ka mela sajaata Chalaa
Jis pyaar ka koi mol nahin
Us pyaar ko hai nibhaata Pita..

Apne dukho ko bhul hi jaata
Dekh ke saare dukh ko mere
Meri hansi ke liye khud hi dekho
Ban jaata hai wo khilaunaa mera
Ek aur chahe duniya kahe Kuch bhi
Hamesha tere Sangh chalta Pita

Bhagwaan ke jaisa
Dharti par hi
Milta hai jo wo
Kehlaata Pita

-Shubhashish Upadhyay

Hindi Poem on Charity-दान

पवित्र जिसकी कामना
उसका अतुल्य मोल है
अर्पण हुए जो प्रेम से
वह दान भी अनमोल है ।

चित्त हर्ष से दिए दान से
स्वच्छंद हो ये आत्मा
बङभाग उसके हैं
बहुत जिसको मिला परमात्मा ।

इच्छाएं पनपे मन में
दिए दान का जो बखान हो
फिर मिलेगा फल कहाँ
व्यर्थ ही सब काम हो ।

दान वही साकार है
जिसमें अहम का नाश हो
छल-कपट न हो
जहाँ चित्त प्रेम का ही दास हो ।

-मुकेश नेगी

Pavitra jiski kamana
Uska atulya mol hai
Arpan hue jo prem se
Veh daan anmol hai

Chit harsh se diye daan se
Svachhand ho ye aatama
Badbhag uske hai
Bahut jisko mila Parmatama

Icchayein panpein man mein
Diye daan ka jo bakhan ho
Fir milega fal kahan
Vyarth hi sab kaam ho

Daan wahi sakaar hai
Jisme inaham ka nash ho
Chhal kapat na ho
Jahan chit prem ka hi daas ho

-Mukesh Negi

Amazing Hindi Poetry Collection

%d bloggers like this: