गाँव पर कविता

now browsing by tag

 
 

Hindi Poems on Childhood Memories- कभी मिलना उन गलियों में

कभी मिलना उन गलियों में
जहाँ छुप्पन-छुपाई में हमनें रात जगाई थी
जहाँ गुड्डे-गुड़ियों की शादी में
दोस्तों की बारात बुलाई थी
जहाँ स्कूल खत्म होते ही अपनी हँसी-ठिठोली की
अनगिनत महफिलें सजाई थी
जहाँ पिकनिक मनाने के लिए
अपने ही घर से न जाने कितनी ही चीज़ें चुराई थी
जहाँ हर खुशी हर ग़म में दोस्तों से
गले मिलने के लिए धर्म और जात की दीवारें गिराई थी
कई दफे यूँ ही उदास हुए तो दोस्तों ने
वक़्त बे वक़्त जुगनू पकड़ के जश्न मनाई थी
जब गया कोई दोस्त वो गली छोड़ के तो
याद में आँखों को महीनों रुलाई थी गली अब भी वही है
पर वो वक़्त नहीं, वो दोस्त नहीं हरे घास थे
जहाँ वहाँ बस काई उग आई है।

-सलिल सरोज

Kabhi milna un galiyon me kha
Chupan-chupai me hamne raat jgai thi
Jhan gude-guddiyon ki shadi mein
Doston ki barat bulai thi
Jhan school khtam hote hi apni hasi thitholi ki
Anginat mehfeele sjai thi
Jhan piknik mnanane ke liye
Apne hi ghar se na jane kitni hi chie churai thi
Jhan har khushi har gum mein doston se
Gale milne ke liye dharm aur jaat ki diware girai thi
Kai dafe yoon hi udas huye to doston ne
Waqt ve waqt jugnu pakad ke jashan mnai thi
Jab gya ki dost wo gali chod ke to
yaad mein aankhon ko mhino rulai thi gali ab abhi wahi hai
Par wo waqt nahi wo dost nahi hare ghas the
Jjhan whan bas koi uag aai hai

-Salil saroj

Hindi Poems on Emotions – गाँव गलियों में

 

याद आ रही बचपन की गाँव के उन पलों की
नही भा रही हवा मुझे शहर के जलजलों की

सरसों के खेतों में भाग-भाग कर पतंग लूटना
पहिया चलाने वाले दोस्तों का साथ छूटना

छुपा छुपाई का खेल लम्बी कूद,पेड़ों पर चढ़ना
यारी ऐसी थी हमारी सुबह दोस्ती शाम को लड़ना

गाँव की सुहानी हवा आँगन में चिलचिलाती धुप
चूल्हे की दो रोटी खाकर मिटती थी हमारी भूख

छत पर सूखती थी मक्का,आँगन में भुट्टों के ढेर
बागों में बीनते थे आम, छुट्टी में तोड़ते थे बेर

कलम हमारी बनती थी छप्पर की एक लकड़ी से
छुट्टियों का मजा उठाते खाकर खीरा ककड़ी से

ट्यूबवेल का पानी जिसमे घण्टो करते मनमानी
नाच नाचकर खूब नहाते रखते थे बहुत शैतानी 

अब सब छूट गए वो काम छूट गए वो खेल
जब गाँव की गलियो में चलती थी अपनी रेल

गाँव में जो सुकून मिला था बगीचों की कलियों में
नही ढून्ढ पाया आज तक मैं शहरों की गलियों में।

– राहुल रेड

Yaad aa rahi bachpan ki gaon ke un palon ki
Nahi baha rahi hawa mujhe sheher ke jaljalon ki

sarson ke kheton me bhag bhag kar patang lutna
Pahiya chalane wale doston ka sath chutna

Chupa chupai ka khel lambi kud,pedo par chadna
Yari esi thi humari subah dosti sham ko ladna

Gaon ki suhani hawa aangan me chilmilati dhoop
Chulhe ki do roti kha kar mitt ti thi hamari bhukh

Chhat par sukhti thi makka aagan me bhutton ka dheir
Bago me binte they aam,chutti me todte they veir

Kalam hamari banti thi chapper ki ek lakdi se
Chuttiyon ka maza uthate kha kar kheera kakdi se

Tubewell ka paani jismain ghanton karte manmaani
Nanch nanch ke khoob nahate rakhtey they bahut shaitani

Ab sab chhut gaye wo kam chhut gaye sab khel
Jab gaon ki galiyonme chalti thi apni rail

Gaon main jp sukun mila tha bagiche ki galiyon main
Nahi dhund paya main aaj tak sheheron ki main

– Rahul Red