चिड़िया की पोएम

now browsing by tag

 
Hindi kavita Hindi kavita on life Hindi Poem on Bharat Hindi Poem on God Hindi poem on India Hindi Poem on Mother Hindi Poems Hindi Poems on Emotions Hindi poems on jeevan hindi poems on life struggle Hindi Poems on motherhood Hindi Poems on Motivation Hindi Poems on Positive Attitude Hindi poems with English translation Hindi Poetry Inspirational Hindi Poems inspirational poem in hindi for students Inspirational Poems Motivational Hindi Poems Motivational Poems Motivational Poems in Hindi poem on success and hard work in hindi Poetry Positive Attitude Hindi Poem Rape is crime poem self motivation poem hindi कविता जीवन पर ज़िन्दगी पर कविता जिंदगी पर शायरी जीवन के उतार-चढ़ाव पर कविता जीवन के सुख-दु:ख पर कविता जीवन पर कविता परेशानी पर कविता प्रयास पर कविता प्रेरणादायक हिन्दी कविता भारत पर कविता मम्मी के लिये कविता माँ पर कविता संघर्ष पर कविता सकारात्मक सोच पर कविता सियासत पर कविता हिंदी कविता हिन्दी कविता हिन्दी कवितायें हिम्मत और ज़िन्दगी पर कविता
 

Hindi Poem on Sparrow-चिड़िया निकली है

चिड़िया निकली है आज लेने को दाना
समय रहते फिर है उसे घर आना
आसान न होता ये सब कर पाना
कड़ी धूप में करना संघर्ष पाने को दाना
फिर भी निकली है दाने की तलाश में
क्योकि बच्चे है उसके खाने की आस में
आज दाना नही है आस पास में
पाने को दाना उड़ी है दूर आकाश में
आखिर मेहनत लायी उसकी रंग मिल गया
उसे अपने दाने का कण पकड़ा
उसको अपनी चोंच के संग
ओर फिर उड़ी आकाश में जलाने को
अपने पंख भोर हुई पहुँची अपने ठिकाने को
बच्चे देख रहे थे राह उसकी आने को
माँ को देख बच्चे छुपा ना पाए अपने मुस्कुराने को
माँ ने दिया दाना सबको खाने को
दिन भर की मेहनत आग लगा देती है
पर बच्चो की मुस्कान सब भुला देती है
वो नन्ही सी जान उसे जीने की वजह देती है
बच्चो के लिए माँ अपना सब कुछ लगा देती है
फिर होता है रात का आना सब सोते है
खाकर खाना चिड़िया सोचती है
क्या कल आसान होगा पाना दाना
पर अपने बच्चो के लिए उसे कर है दिखाना
अगली सुबह चिड़िया फिर उड़ती है लेने को दाना
गाते हुए एक विस्वास भरा गाना

– आशीष राजपुरोहित

Chidiya nikali hai aaj lene ko dana
Samay rahte fir hai use ghar aana
Aasan na hota ye sab kar pana
Kadi dhup mein karna sangharsh pane ko dana
Fir bhi nikali hai dane ki talash mein
Kyuki bache hai uske khane ki aas mein
Aaj dana nahi hai aas paas mein
Uane ko dana uadi hai dur aakash mein
Aakhir mehnat layi uski rang mil gya
Use apne dane ka kan
Pakda usko apni chunch ke sang
Aur fir udi aakash mein jalane ko
Apne pankh bhaur hue phuchi apne thikane ko
Bache dekh rhe they raah uski aane ko
Maa ko dekh bache chupa na paye apne muskurane ko
Maa ne diya dana sabko khane ko
Din bhar ki mehant aag laga deti hai
Par bacho ki muskaan sab bhula deti hai
Wo nanhi si jaan use jine ki vjah deti hai
Bachon ke liye maa apna sab kuch laga deti
Hai fir hota hai raat ka aaana sab sote hai
Khakar khana chidiya sochti hai
Kya kal aasan hoga pana dana
Par apne bachon ke liye use kar hai dikhana
Agali subh chidiya fir se uadti hai lene ko dana
Gaate hue ek Vishwas bhara gaana..

-Ashish Purohit