Tag Archives: चुनाव पर कविता

Hindi Poem on Elections in India-Kisko Vote Karu Main


borders-2099205_960_720

किसको वोट करूँ मैं ?

किसको वोट करूँ मैं ?
किसको वोट करूँ मैं भारत,
किसको वोट करूँ मैं ?
जिसने पटेल जी की मूर्ती बनवाई,
या जिसने लोगों को एकता में जोड़ा
किसको वोट करूँ मैं ?
जो सिर्फ विपक्ष की बुराइयाँ करता रहा,
या जो चुपचाप बुराई सुनता रहा
किसको वोट करूँ मैं ?
जो गाँधीजी का नाम ले, हिंसा करता रहा
या जो हिंसा सहता और देखता रहा
किसको वोट करूँ मैं ?
जो देश का सारा धन लेकर भाग गया,
या जो देश के धन से विदेश यात्रा करता रहा
किसको वोट करूँ मैं ?
जो गौ माता के नाम पर दो भाइयों को लड़ाता रहा
या जो खुले आम गौ माता का कत्ल करता रहा
किसको वोट करूँ मैं ?
सरहदों पर सैनिकों के बलिदान को राजनीति बनाता रहा
या जो बलिदान पर शोक व्यक्त करता रहा
किसको वोट करूँ मैं ?
पक्ष -विपक्ष के इस खेल में
आम आदमी हुआ परेशान,
सत्ता की होड़ में धूमिल हुई देश की शान ।
कोई हर उम्मीदवार का नारको टेस्ट करा दो,
कोई तो नेताओं के चेहरे से नकाब हटा दो,
कोई तो बता दो,
किसको वोट करूँ मैं भारत,
किसको वोट करूँ मैं ?

-अन्नपूर्णा

Hindi Poem on Politics and Power-भारत के युवा


हम भारत के युवा हैं हम बदल सकते हैं इतिहास पुराना
हम इतिहास नया रच सकते हैं हम भारत के युवा हैं
हम वो तूफान हैं जो राजनीति को नई परिभाषा देंगे
हम वो हैं जो देश को नया स्वरूप देंगे
हम वो आग हैँ जो जलाकर राख़ कर देंगे भ्रष्टाचार फैलाने वाले उन सियारों को
जो लूट रहे देश को चोला ओढ़े शरीफों का, हम भारत के युवा हैं
देश का अभिमान हम बनायेंगे ,देश के ललकार हम बनेंगे
देश की हर बुलन्द आवाज़ हम बनायेंगे देश के रक्षक हम बनेगें
हम भारत के युवा हैं हम वो रौशनी बनायेगें वो वो प्रकाश बनायेगें
जिससे दूर होगा अंधेरा पल में देश का हम भारत के युवा हैं
भारत का स्वाभिमान हम बनेगें जय भारत जय भारतीय युवा .

-कीर्तिदेव

Hum Bharat ke yuva hai, Hum badal sakte hai itihas Purana,
Hum itihas naya rach sakte hai, Hum Bharat ke yuva hai,
Hum Bharat ke yuva hai. Hum vo tufaan hai,
Jo rajneeti ko nyi ek paribhasha denge, Hum to vo hai ,
Jo desh ko naya svaroop denge, Hum vo aag hai ,
Jo jalakar rakh kar denge Bhrashtachar felane vale un siyaro ko,
Jo loot rhai desh ko chola audhe sharifo ka, Hum Bharat ke yuva hai.
Desh ka aabhiman hum banenge, Desh ki lalkar hum banenge,
Desh ki hr buland aavaj hum banenge, Desh ke rakshak hum banenge,
Hum Bharat ke yuva hai. Hum vo roshni banenge,vo prakash banenge,
Jisse dur hoga aandhaira pal hai desh ka, Hum Bharat ke yuva hai,
Bharat ka svabhiman hum banenge. “Jay Bharat ,jay bhartiy yuva”

– Kirtidev

Hindi Poem on Elections – मैं वोट हूँ


vote-2831241_960_720.png

छोटे से कागज़ में लिप्त हूँ
या मशीन में चिन्ह हूँ
प्रजातंत्र का नोट हूँ
मैं वही वोट हूँ
जब भी हैं चुनाव आते
मेरे लिए हैं सब दौड़ लगाते
कभी कोई पार्टी कभी कोई नेता
मेरे बहुमत बिना न कोई कुछ बनता
सियासत की कुर्सी का मैं ही रखवाला
हाँ मैं ही हूँ सरकार बनाने वाला
-अनुष्का सूरी

How to read:

Chote se kagaz mein lipt hu

Ya machine mein chinha hu

Prajatantra ka note hu 

Main wahi vote hu

Jab bhi hain chunav aate

Mere liye hain sab daud lagate

Kabhi koi party kabhi koi neta

Mere bahumat bina na koi kuch banta 

Siyasat ki kursi ka main hu rakhwala

Haan, main hi hu sarkaar banane wala 

-Anushka Suri

English Translation:

I am in the form of a piece of paper

Or a symbol in an electronic machine

I am the currency of democracy

Yes, I am the same vote

Whenever the elections are about to take place

Every politician is after me

No political party or politician

Can resume power without my majority

I am the one who can safeguard a political party in power

I bring parties to governance