Tag Archives: देशभक्ति कविता इन हिंदी

Patriotic Poem in Hindi-Ye Desh Hai Mera Iska Sheesh Jhukne Nahi Dunga

यह देश है मेरा इसका शीष झुकने नहीं दूंगा
एक वीर की दास्तान सुनाता हूं मैं।।।
क्या कहता है वो।
यह देश है मेरा इसका शीष झुकने नहीं दूंगा।।
लिया है मैंने जो वचन मैं उसको पूरा करने के लिए जान भी दूंगा।।
यह धरती मेरी माँ है मुझे इसका क़र्ज़ चुकाना है।।
माँ-बाप भाई-बहन सब छोड़ दिया मैंने
क्योंकि मेरा तो सब कुछ ये धरती माँ है।।।
यह देश है मेरा इसका शीष झुकने नहीं दूंगा।।
मैं भूला नहीं उन्हें जिन्होंने मेरे देश की आज़ादी के लिए जान दे दी।।।
मुझे उनका भी क़र्ज़ चुकाना है।।।
यह देश है मेरा इसका शीष झुकने नहीं दूंगा।।
मेरा सिर्फ एक ही सपना है दुनिया में नंबर एक पर देश हो अपना ।।।
तुम भी देना मेरा साथ मेरे भाइयों मैं करूंगा तुम्हारी रक्षा।।
बस तुम पढ़-लिख कर देश का नाम रोशन करना ।।।।
मैं करूंगा बॉर्डर पर देश की रक्षा।।
यह देश है मेरा इसका शीष झुकने नहीं दूंगा ||
तुम नहाना गरम पानी से मैं बर्फ़ में नहा लूंगा ||
तुम सुबह-शाम खाना खाना ||
मैं दो दिन में एक बार खाना खा कर काम चला लूंगा ।।।
तुम शांति से सो जाना मैं तुम्हारी बॉर्डर पर रक्षा करूंगा||
यह देश है मेरा इसका शीष झुकने नहीं दूंगा ||
-अमित धारीवाल

Yeh Desh Hai Mera Iska Sheesh Jhukne Nahi Dunga (Title of the Poem)
Ek veer ki dastaan sunata hoon main (Let me tell you the story of a brave soldier)
Kya kehta hai wo (What does he say)
Yeh desh hai mera iska sheesh jhukne nahi dunga (It is my country and I will not let its honour be destroyed)
Liya hai maine vachan main usko pura karne ke liye jaan bhi dunga (I have taken a pledge and I shall sacrifice my life to honour it)
Yeh dharti meri maa hai mujhe iska karz chukana hai (It is my motherland and I need to pay back its debt on me)
Ma-baap bhai-behan sab chod diya maine (I left my mother-father brother-sister, all of them)
Kyonki mera to sab kuch ye dharti ma hai (Because my motherland is my everything)
Yeh desh hai mera iska sheesh jhukne nahi dunga (It is my country and I will not let its honour be destroyed)
Main bhula nahi unhein jinhone mere desh ki azadi ke liye jaan di thi (I have not forgotten all those who sacrificed their lives for the freedom of my country)
Mujhe unka bhi karz chukana hai (I need to pay back their debt too)
Yeh desh hai mera iska sheesh jhukne nahi dunga (It is my country and I will not let its honour be destroyed)
Mera sirf ek hi sapna hai duniya mein number ek par desh ho apna (I have only one dream of seeing my country on topmost position in the world)
Tum bhi dena mera sath mere bhaiyo main karunga tumhari raksha (You also cooperate with me my countrymen, I shall also protect you)
Bas tum padh likh kar desh ka naam roshan karna (You just study well and make our country proud)
Main karunga border par desh ki raksha (I shall protect our country on the border)
Yeh desh hai mera iska sheesh jhukne nahi dunga (It is my country and I will not let its honour be destroyed)
Tum nahana garam pani se main barf mein naha lunga (You take bath in warm water and I shall take bath in ice)
Tum subah-sham khana khana (You have meals twice a day – morning and evening)
Main do din mein ek bar khana kha kar kam chala lunga (I shall survive by eating once in two days)
Tum shanti se so jana main tumhari border par raksha karunga (You sleep peacefully and I shall protect you on the border)
Yeh desh hai mera iska sheesh jhukne nahi dunga (It is my country and I will not let its honour be destroyed)
-Amit Dhariwal (Poet)

Patriotic Hindi Poem-Desh

This slideshow requires JavaScript.

देश
मेरे देशवासियों अब तो नींद छोड़ो
दिनकर निकल गया है सवेर हो रहा है
दुनिया में हर तरफ भोर हो रही है
अज्ञानता की रातें कब की गुजर गई हैं
इस सोई हुई फ़िज़ा में एक ख्वाब दिख रहा है
देखो सूरज के तेज से आलोक आ रहा है
इस निकली हुई सुबह में ख्वाब आ रहा है
पूरब हो या और वो पश्चिम कब के जगे हुए है
एक हम हैं कि जो अब तक ख्वाबों में ही पड़े है
उठो नींद तोड़ो अब सुबह हो गयी है
देखो इन फ़िज़ाओं में कलियाँ खिली खिली हैं
सदियों से नींद में थे अबतक जो पीछे रह गए थे
सब दुनिया बदल रहे थे इधर हम आपस में लड़ रहे थे
अब उठो ख्वाब बदलो और बदलो ये नज़ारा
आसमां और धरा पर आगे हो हिन्दोस्ताँ हमारा
दुनिया को दिखा दो अब अपने मिट्टी की ताकत
पता उन्हें भी चलेगा जब वो जानेंगे हकीकत
-अलोक दूबे

Desh

Mere deshwasiyo ab to neend chodo

Dinkar nikal gaya hai savera ho raha hai

Duniya mei har taraf bhor ho rahi hai

Agyanta ki ratei kab ki guzar gayi hain

Is soyi hui fiza mein ek khwab dikh raha hai 

Dekho suraj ke tej se alok araha hai 

Is nikli hui subah mein khwab araha hai 

Purab ho ya aur wo paschim kab ke jage hue hain

Ek ham hain ki jo ab tak khwabon mein hi pade hain 

Utho neend todo ab subah ho gayi hai

Dekho in fizaon mein kaliyan khili khili hain

Sadiyon se neend mein the ab tak jo peeche reh gaye the

Sab duniya badalrahe the idhar ham apas mein lad rahe the

Ab utho khwab badlo aur badlo ye nazara

Asmaa aur dhara par aage ho hindustaa hamara

Duniya ko dikha do ab apne mitti ki takat

Pata unhein bhi chalega jab wo janenge haqiqat 

-Alok Dube (Poet)