देशभक्ति कविता बच्चों के लिए

now browsing by tag

 
 

Patriotic Hindi Poem- भारत

indian_art-wallpaper-1366x768

है धरम भूमि ये भारत की
जहाँ वीर जवान सर झुकाते हैं
कितना खून पसीना बहाकर
आज हम आज़ादी का दिन  मनाते हैं
जिनके माथे जनम भूमि का तिलक को
वो वीर भारत माता की शान बन जाते हैं
जिसने दुश्मनों को मार गिराया
आज उस वीर को भारत ने सलाम किया
जिस भारत ने दिया हमें जनम
जहाँ से अपनी पहचान बनी
आज उसी  संविधान को
हम बार बार नमन  करते हैं
पूरे देश में आज हम
गणतंत्र दिवस मनाते हैं
जय हिन्द
जय भारत
जय जवान
जय किसान
– संगीता श्रीवास्तव

Hindi Poem on Independence Day: स्वप्निल हिंदुस्तान

bharat-mata

स्वप्निल हिंदुस्तान

ऐसा देश हमारा हो,

गर्व से मस्तक उन्मुख हो,

ऐसा स्वाभिमान हमारा हो ,

ऐसा देश हमारा हो |

 

क्या राजा क्या प्रजा ,

किसी का एकाधिकार ना हो ,

वस्त्र ,विहार,आहार , सर्वसुलभ हो ,

ऐसा देश हमारा हो |

जैसा इतिहास था ,

उससे उज्जवल भविष्य हो ,

समाहित हो जाये पश्चिम ,

जो प्रबल है पूरब की ओऱ ,

इतनी विशाल संस्कृति हमारी हो ,

ऐसा देश हमारा हो |

 

तम को चीरता ,

सूरज की पहली किरण से,

हर रोज एक हँसता हुआ ,

सबेरा हो ,

ऐसा देश हमारा हो |

अज्ञान का अंधकार कभी ना होने पाये ,

हर घर में ज्ञान का ,

एक दिया आलोकित हो ,

ऐसा देश हमारा हो |

 

 

भर दो यहाँ के दिलो में ,

इतना प्यार ,

वसुधैव कुम्ब्कम्ब ,

हमारी पहचान हो ,

ऐसा देश हमारा हो ,

ऐसा स्वप्निल हिंदुस्तान हमारा हो

-प्रियांशु शेखर