Tag Archives: नेता पर शायरी

Hindi Poem on Politics and Power-भारत के युवा


हम भारत के युवा हैं हम बदल सकते हैं इतिहास पुराना
हम इतिहास नया रच सकते हैं हम भारत के युवा हैं
हम वो तूफान हैं जो राजनीति को नई परिभाषा देंगे
हम वो हैं जो देश को नया स्वरूप देंगे
हम वो आग हैँ जो जलाकर राख़ कर देंगे भ्रष्टाचार फैलाने वाले उन सियारों को
जो लूट रहे देश को चोला ओढ़े शरीफों का, हम भारत के युवा हैं
देश का अभिमान हम बनायेंगे ,देश के ललकार हम बनेंगे
देश की हर बुलन्द आवाज़ हम बनायेंगे देश के रक्षक हम बनेगें
हम भारत के युवा हैं हम वो रौशनी बनायेगें वो वो प्रकाश बनायेगें
जिससे दूर होगा अंधेरा पल में देश का हम भारत के युवा हैं
भारत का स्वाभिमान हम बनेगें जय भारत जय भारतीय युवा .

-कीर्तिदेव

Hum Bharat ke yuva hai, Hum badal sakte hai itihas Purana,
Hum itihas naya rach sakte hai, Hum Bharat ke yuva hai,
Hum Bharat ke yuva hai. Hum vo tufaan hai,
Jo rajneeti ko nyi ek paribhasha denge, Hum to vo hai ,
Jo desh ko naya svaroop denge, Hum vo aag hai ,
Jo jalakar rakh kar denge Bhrashtachar felane vale un siyaro ko,
Jo loot rhai desh ko chola audhe sharifo ka, Hum Bharat ke yuva hai.
Desh ka aabhiman hum banenge, Desh ki lalkar hum banenge,
Desh ki hr buland aavaj hum banenge, Desh ke rakshak hum banenge,
Hum Bharat ke yuva hai. Hum vo roshni banenge,vo prakash banenge,
Jisse dur hoga aandhaira pal hai desh ka, Hum Bharat ke yuva hai,
Bharat ka svabhiman hum banenge. “Jay Bharat ,jay bhartiy yuva”

– Kirtidev

Hindi Poem on Politics and Power – सियासत एक जंग


bharat1

सियासत से आजाद हुआ भारत देश
आज सियासत मे उलझ रहा है
कभी गुलामी एक दौर बनकर गुजरा
आज असहिष्णुता का दौर चल रहा हैै।

भारत जाना जाता था अनेको नाम से
आज ‘हिन्दुस्तान’ न बोलने को कह रहा है
अनेको नारे लगाते थे लोग इस देश मे
आज ‘भारत माता की जय’ बोलने पर लड रहा है ।

कोई अखबारो मे छा चुका है
कोई छाने का प्रयास कर रहा है
खुद तो कुछ कर नही सकता
जो करता है उसकी आलोचना कर रहा है ।

कोई दुनिया के दौरे पर है
तो कोई भारत दौरे पर घुम रहा है
कोई अनेको योजनाएंं ला चुका है
तो कोई उन योजनाओ पर बहस कर रहा है।

कोई आरक्षण के खिलाफ लड़ रहा है
कोई आरक्षण के लिए लड़ रहा है
आन्दोलनो से घिरा है अपना देश
पूछता है आखिर क्या चल रहा है।

किसकी तारीफ और किस की बुराई करुं
यहां तो हर कोई अपना काम कर रहा है
यह सब देखकर इतना तो कह सकता हूं
भारत में सरेआम ‘fogg’ चल रहा है।

-नीरज चौरसिया

Siyatsat se aajad hua bharat deish
Aaj siyasat me uljh rha hai
Kbhi gulami ek daur bn kr gujra
aaj ashishnuta ka daur chal rha

Bharat jana jata tha aneko nam se
Aaj hindustaan na bolne ko kh rha hai
Aneko nare lgate they es deish me
Aaj bahrat mata ki jai bolne pr lad rha hai

Koi akhbaro main cha chuka hai
Aneko nare lgate they es deish me
Aneko nare lgate they es deish me
Aaj bahrat mata ki jai bolne pr lad rha hai

Koi duniya k daurei par hai
To koi bharat daurei pr ghum rha hai
Koi aneko yojnaye la chuka hai
To koi un yojnao pr bhas kar rha hai

Koi aarkshan k khlaf lad rha hai
Koi aarkhshan k liye lad rha hai
Aandolano se ghira hai apna deish
Phuchta hai aakhir kya chl rha hai

Kiski tarif aur kis ki burai krun
Yha to koi apna kam kr rha hai
Yh sb dekh k etna to kh skta hu
Barat me sreaam “fogg” chl rha hai

– Niraj Chaurasiya