Tag Archives: परेशानी पर कविता

Hindi Poems on Life-ज़िन्दगी का खेल


ज़िन्दगी का खेल निराला है
दुख सुख का पिटारा है
एक बात समझ में आ गई
पैसों का ही बोलबाला है यहां
खुशी भी पैसों से खरीदी जाती है
ओर गम भी पैसों की कमी से आता है
लड़ लेते हैं लोग अपनो से तब
कोई रिश्ता समझ नहीं आता है
ना जाने कितनो की ज़िन्दगीयो से
खेलेगा ये कागज का टुकड़ा
क्या बदलेगी ये दुनिया या फिर
मुझे बदलना होगा
सोच रही हूँ कब से
अब क्या करना होगा ? ?

-नेहा कुमारी

Zindagi ka khel nirala hai
Dukh sukh ka pitara hai
Ek baat smajh mein aa gayi
Paiso ka bolbala hai yhan
Khushi bhi paiso se kharidi jati hai
Aur gam bhi paiso ki kaam se aata hai
Lad lete hai log apno se tab
Koi rishta smajh nahi aata hai
Na jane kitno ki zindagiyon se
Khelega ye kagaz ka tukda
Kya badlegi ye duniya ya fir
Mujhe badalna hoga
Soch rahi hoon kab se
Ab kya karna hoga

-Neha kumari

Motivational Poems on Life – जीवन एक युद्ध


जीवन है एक अटल युद्ध..
तुझको लड़ना होगा ।
जीना-मरना घायल होना,
अटल सत्य होगा ।।
बढ़ता जा तू पवन-वेग से,
रहना अडिग, सीख ले तरु से,
ज्योतिर्मय कर, निकल जिधर से,
मग छायामय, कर दे मरू के….
राहें रुक भी जाएं,
तबभी तुझको चलना होगा…
जीवन है एक अटल युद्ध,
तुझको लड़ना होगा ||
रण भेरी की तान तरंगित,
घेर खड़े, योद्धागण अगणित,
होगा तू अरिमध्य अकेला,
बदले संबंधों से शंकित,
साथ पराए देंगे,
दुश्मन कोई अपना होगा…
जीवन है, एक अटल युद्ध,
तुझको लड़ना होगा ।।
स्वर्ग लोक बैठा चतुरानन,
तू दिग्भ्रमित, देख जग कानन,
स्वप्न धरे के धरे रहेंगे,
इच्छाओं के महामेरू मन…..
सांसे डोर झुलायेंगी,
सुख-दुख का पलना होगा….
जीवन है एक अटल युद्ध,
तुझको लड़ना होगा ।।
नर सा जीव नहीं कोई उत्तम,
राष्ट्रभक्ति ही भक्ति महत्तम,
मातृभूमि की एक पुकार सुन….
मृत्यु-वरण कर अमर नरोत्तम,
जन छलकेगी जिस दिन,
तेरा गवना होगा…
जीवन है एक अटल युद्ध,
तुझको लड़ना होगा ।।

-डॉ. रविन्द्र उपाध्याय “गुंजन”

Jeevan hai ek atal yudh
Tujhko ladna hoga
Jeena marna ghayal hona
Atal satya hoga
Badta ja tu pawan – beg se
Rehna adig sikh le taru se
Jyotirmaya kar nikal jidhr se
Mag chayamaya kar de maru ke
Rahein ruk kbhi jaye
Tab bhi tujhko chalna hoga
Jeevan hai ek atal yudh
Tujhko ladna hoga
Ran bheri ki taan tarangit
Gher khade yaudhagan aganit
Hoga tu arimadhya akela
Badle sambandho se shankit
Sath paraye denge
Dushman koi apna hoga
Jeevan hai ek atal yudh
Tujhko ladna hoga
Swarg baith chaturanan
Tu digrbhramit dekh jag kanan
Swapn dhare ke dhare rahenge
Ichchao ke mahameru man
Saanshein dor jhulayengi
Such dukh ka palan hoga
Jeevan hai ek atal yudh
Nar sa jeev nahi koi uttam
Rashtrabhakti hee bhakti hi mehttam
Matrbhumi ki ek pukar sun
Mrityu varan kar amar narottam
Jan chhalkegi jis din
Tera gawana hoga
Jeevan hai ek atal yudh
Tujhko ladna hoga

– Dr. Ravinder Upadhayay “Gunjan”

Hindi Poems on Life – चौराहा राह भटक गए


चौराहा राह भटक गए राह भटकते है
चौराहे भी आये जो मन को खटकते है।
एक रास्ता हो तो चले,आखिर कितने रास्ते चले।
मंजिल भी तो तय नही, किसके वास्ते चले।
इस चौराहे के हर रास्ते अलग मंजिल दर्शाते हैं।
कुछ लोग तो मंजिल पहुंचकर भी वापस लौट आते है।
ये अनजाने रास्ते मन को खटकते है।
राह भटक गए राह भटकते है।
ये अनजाने रास्ते और और कई सारे है
इनमे चलते चलते चलते हां… हम हारे है।

एक रास्ता,दो रास्ते राहगीर को परेशान कर देती राहे है।
मंजिल सामने फिर भी उसे ढूढती निगाहे है।
इन निगाहों कि तड़प को जानता है
हम सच भी कहे कौन मानता है
इस मंजिल को देखने के लिए आँखे तरसती है
कभी कभी तो बादलो की तरह बरसते है
वो तब जब राह भटकते है

चौराहे भी आये जो मन को खटकते है।
जिंदगी चार दिन की है चलते चलते गुजर जाएगी
जब हम आपसे दूर हो जाएंगे तब हमारी याद आएगी
मेरी चाहत बदलो सी है जिन्हें राहत मिलती नही ।
और मुस्कान……….. मुस्कान है
कांटो सी जो कभी खिलती नही।
कई तरह के सपने लेकर चैराहे में खड़े है।
कौन सा रास्ता सही रहेगा इसी सोच में पड़े है।
मंजिल डर नही हमारी मजबूरी है
एक रास्ता चुनना और उसमें चलना भी तो जरूरी है।

-संतोष

Chauraha raah bhatak gye raah bhtakte hai
Chauraha bhi aaye jo man ko khatkte hai
Ek rasta ho to chle, aakhir kitne raste chle
Manzil bhi tay nahi kiske vaste chale
Es chaurahe ke har raste alag raste alag manzil darshate hai
Kuch log to manzil phuch kar bhi bapis laut aate hai
ye anjane raste man ko khatkte hai
Raahbhatak gye raah bhatkte hai
Ye anjane raste aur kai sare hai
Enme chalte chalte haan hum hare hai

Ek rasta, do raste rahgeer ko pareshan kar deti hai
Rahe hai manzil samne fir bhi use dhundti nigaahe hai
En nigahoon ki tadap ko janta hai
Hum such bhi kahe kon manta hai
Es manzil ko dekhne ke liye aankhei tarsti hai
Kabhi to badlon ki tarh barsti hai
Wo tab jab raah bhatkte hai

Chaurahe bhi aaye jo man ko khatkte hai
Zindagi char din ki hai chalte chalte guzar jayegi
Jab hum aapse dur ho jayenge tab humari yaad aayegi
Meri chahat badlon si hai jinhe rahat milti nahi
Aur muskaan muskaan hai
Kanton si jo bhi khilati nhi
Kai tarh ke sapne lekar chaurahe me khade hai
Kon sa rasta sahi rhega yahi soch me pade hai
Manzil dar nahi hmari majburi hai
Ek rasta chunna aur chalna bhi to jaruri hai

-Santosh

Hindi Poems on Life – अरमान


ये तुम्हारी कल्पना और बुद्धि का अंजाम है,
रास्ते हैं दो मगर वो एक ही पैगाम है ।
जब नहीं तुम जानते थे क्या ज़मीन क्या आसमान,
बंदगी जब थी नहीं क्यूं काफिरी बदनाम है।
आये थे जब वो तो आयी थी तुम्हारी इक किताब,
उससे पहले भी जहां में आदमी श्रीमान है।
उंगलियां अब मत उठाओ वक़्त का बदला मिज़ाज़,
था कभी वो वक़्त जब ज़िंदा चुना दीवार है।
कर दिया उसने कलम सिर बढ़ सकी न उसकी शान,
आज भी वो हम सभी के सीने में आबाद है।
मेरी नज़रों में सभी पैग़म्बरों की इक क़िताब,
मैंने देखी है ये गीता और वो कुरान है।
आदमी को आदमी से प्यार होना चाहिए,
इससे बढ़के बंदगी का न कोई फरमान है।
हम रहे या तुम रहो न कोई शिकवा न गिला,
फ़लसफ़ा इक हो ज़मीरी बस यही अरमान है।

– स्मृति तिवारी

Ye tumhari kalpana aur budhi ka anjaam hai
Raaste hai do magar wo ek hi pegaam hai
Jab nahi tum jante they kya jamin kya aasmaan
Bandgi jab thi nahi kyu kafiri badnaam hai
Aaye they jab woto aai thi tumhari ek kitab
Usse phale bhi aadmi jha me shrimaan hai
Ungliyaan ab mat uthao waqt ka badla mizaz hai
Tha kabhi wo waqt jab jinda chuna diwar hai
Kar diya usne kal seer badh saki na uski shaan
Aaj bhi wo hum sabhi ke sine me aabad hai
Meri nazron me sabhi pegambron ki ek kitab
Maine dekhi hai ye geeta aur ye kuran hai
Aadmi ko aadmi se pyar hona chahiye
Esse badke bandgi ka na koi farmaan hai
Hum rhe ya tum rho na koi shikwa na geela
Falsffa ek ho jamiri bs yhi armaan hai.

-Smriti Tiwari

Hindi Poems on Emotions – बदनामी


 

महफ़िल सजा ली यारों की, तो हुई बदनामी
बगिया खिला ली बहारों की, तो हुई बदनामी
यह कैसा समाज, जो बदनाम करता फिरता है?
मदद कर दी बेसहारों की, तो हुई बदनामी।

किसी पे दिल अगर ये मर लिया, तो हुई बदनामी
बाँहों में किसी को भर लिया, तो हुई बदनामी।
बदनामी के दौर में भला कौन है बदनाम नही?
कभी प्यार किसी से कर लिया, तो हुई बदनामी

अगर आजदी से घूम लिया, तो हुई बदनामी
महफ़िल में कभी झूम लिया, तो हुई बदनामी
प्रेम को बदनाम कर दिया जालिमो ने इतना
माथा जो उसका चूम लिया, तो हुई बदनामी।

रोकूँ कैसे यारों आज होने से बदनामी?
स्याही के कुछ दाग भी धोने से बदनामी
जिसको पाकर बदनाम ही बदनाम हुआ हूँ
छोड़ दूँ अगर साथ उसे खोने से बदनामी।

जब ज्यादा हो पैसा, तो होती है बदनामी
चाहें गरीब हो कैसा, तो होती है बदनामी
जब बदनामी का दौर है, फिर मैं कैसे बचूँ?
हो इन्शान मेरे जैसा, तो होती है बदनामी।

अक्सर समाज में हर जगह मिलती है बदनामी
बहारों में भी फूल की जगह खिलती है बदनामी
कोई बताये वो जगह, जहाँ होतीं ना बदनामी
जिधर देखो हर जुबान से निकलती है बदनामी।

कांटे नही उससे बढ़कर है सुई बदनामी
हवा से हल्की उड़ने वाली रुई बदनामी
जितना खुद को रोका बदनाम होने से
उतनी ज्यादा और अक्सर हुई बदनामी।

– राहुल रेड

Mehfil sja li yaron ki, to hue badnami
Bagiya khila libaharon ki to hue badnam
Yeh kesa smj hai jo badnaam krta firta hai
Madd kar di besharon ki to hue badnam

Kisi pe dil ye mar liya to hue badnami
Bahon me kisi ko bhr liya to hue badnami
Badnami k dor me bha kon hai bad man nahi
Kabhi pyar kisi se kar liya to hue badnami

Agar ajadi se ghoom liya to hue badnami
Mehfil me kabhi jhoom liya to hue badnami
Prem ko badnam kar diya jalimo ne etna
Matha jo uska chum liya to hue badnami

Roku kese yaron aaj hone se badnami
Syahi k kuch daag dhone se badnami
Jisko pa kar badnaam hi badnaam hua hoon
Chor du aggr sath use khone se badnami

Jab jyada ho pesa to hoti hai badnami
Cahe garib ho kesa to hoti hai badnami
Jab badnami ka daur hai fir main kese bachu
Ho insaan mere jesa to hoti hai badnami

Aksar smaj me har jagh milti hai badnami
Baharon me bhi ful ki jagh khilti hai badnami
Koi btaye wo jgh jha hoti na badnami
Jidhr dekho har jubann se niklti hai badnami

Kate nahi usse badkar hai sui badnami
Hwa se halki udne wali rue badnami
Jitna khud ko roka badnam hone se
Utni jyada aur aksr hue badnami

– Rahul Red