पिता की याद में कविता

now browsing by tag

 
Hindi kavita Hindi kavita on life Hindi Poem on Bharat Hindi Poem on God Hindi poem on India Hindi Poem on Mother Hindi Poems Hindi Poems on Emotions Hindi poems on jeevan hindi poems on life struggle Hindi Poems on motherhood Hindi Poems on Motivation Hindi Poems on Positive Attitude Hindi poems with English translation Hindi Poetry Inspirational Hindi Poems inspirational poem in hindi for students Inspirational Poems Motivational Hindi Poems Motivational Poems Motivational Poems in Hindi poem on success and hard work in hindi Poetry Positive Attitude Hindi Poem Rape is crime poem self motivation poem hindi कविता जीवन पर ज़िन्दगी पर कविता जिंदगी पर शायरी जीवन के उतार-चढ़ाव पर कविता जीवन के सुख-दु:ख पर कविता जीवन पर कविता परेशानी पर कविता प्रयास पर कविता प्रेरणादायक हिन्दी कविता भारत पर कविता मम्मी के लिये कविता माँ पर कविता संघर्ष पर कविता सकारात्मक सोच पर कविता सियासत पर कविता हिंदी कविता हिन्दी कविता हिन्दी कवितायें हिम्मत और ज़िन्दगी पर कविता
 

Hindi Poem for Father- मेरे पापा

मेरे पापा कह ना सका जो कभी
आपसे सुनाना चहता हूँ वो पापा
काश की सुन पाते आप मेरी ये गुजारिश पापा,
क्यूँ नही दिया मुझे वो मौका पापा,
चहता था सहारा आपका बनूँगा पापा,
चहता था साथ आपके रहूँगा पापा,
पर क्यूँ छोड़ दिया साथ मेरा पापा,
जब नही होता रस्ता कोई सोचता हुँ काश साथ होते पापा,
बिगड़ते हुए देखा है लोगो को देखा है चिल्लाते हुए पिता को,
क्यूँ नही दिया वो मौका पापा
काश की सुन पाते आप मेरी ये गुजारिश पापा ।
चले तो गये आप पापा सोचा भी नही क्या होगा मेरा पापा,
चले तो गये आप पापा पर अपने जाने का गम दे गये पापा,
अजीब सा डर है बिन आपके पापा साथ होते तो मै भी खुश होता पापा,
अच्छा लगता जाते हम भी कही मै भी लेता सेल्फी आपके साथ पापा ।
याद है वो रात जब चले गए थे पापा
बताया तो होता जा रहा हुँ मै,
एक बार तो बोला होता ध्यान रखना अपना
तरस चुका हुँ बेटा सुने पापा,
चहता था साथ आपके रहूँगा पापा,
पर क्यूँ छोड़ दिया साथ मेरा पापा ।
जब चोट लगती है तो माँ की याद आती है
पर जब मुश्किल बढ़ती है
तो आपकी ही याद आती है,
कट रही है जिन्दगी आपके बिना
भी चल रही है सांसे आपके बिना भी,
पर आप भी होते तो क्या बात होती पापा
ख्याल तो बहुत रखते है मेरा
पर आप भी रखते तो क्या बात होती पापा,
चहता था साथ आपके रहूँगा पापा,
पर क्यूँ छोड़ दिया साथ मेरा पापा,

-शोभित श्रीवास्तव

Mere papa kah na saka jo
aappse sunna chahta hoon wo papa
Kash ki sun pate aap meri ye gujarish papa
Kyu nahi diya muje wo mauka papa
Chahta tha sahara aapka banu papa
Chahta tha sath aapke rahuga papa
Par kyun chor diya sath mera papa
Jab nahi hota rasta koi sochta hoon
Kash sath hote papa
Bigadte hue dekha hai logo ko
Dekha hai chilate hue papa ko
Kyun nahi diya wo mauka papa
Kash ki sun pate aap meri ye gujarish papa
Chale to gye aap papa
Socha bhi nahi kya hoga mera papa
Chale to gye aap papa
Par apne jane ka gam de gye papa
Ajiv sa dar hai bina aapke papa
Sath hote to mein bhi khush hota papa
Acha lagta jate hum bhi kahi
Me bhi leta selfie aapke sath papa
Yaad hai wo raat jab chle gye they papa
Btaya to hota ja raha hoon
Main ek bar to bola hota dhyan rakhna apna
Tarsh chuka hoon beta sune papa
Jab chot lagti hai to maa ki yaad aati hai
Par jab mushkil badti hai to aapki yaad aati hai
Kat rahi hai zindagi aapke bina bhi
Chal rahi hai sanse aapke bina bhi
Par aap bhi hote to kya baat hoti papa
Khyaal to bhut rakhte hai mera par
Aap bhi rakhte to kya baat hoti papa
Chahta tha sath aapke rahuga papa
Par kyu chor diya sath mera papa

-Shobhit Srivastava