प्रेरणादायी कविता हिंदी

now browsing by tag

 
Hindi kavita Hindi kavita on life Hindi Poem on Bharat Hindi Poem on God Hindi poem on India Hindi Poem on Mother Hindi Poems Hindi Poems on Emotions Hindi poems on jeevan hindi poems on life struggle Hindi Poems on motherhood Hindi Poems on Motivation Hindi Poems on Positive Attitude Hindi poems with English translation Hindi Poetry Inspirational Hindi Poems inspirational poem in hindi for students Inspirational Poems Motivational Hindi Poems Motivational Poems Motivational Poems in Hindi poem on success and hard work in hindi Poetry Positive Attitude Hindi Poem Rape is crime poem self motivation poem hindi कविता जीवन पर ज़िन्दगी पर कविता जिंदगी पर शायरी जीवन के उतार-चढ़ाव पर कविता जीवन के सुख-दु:ख पर कविता जीवन पर कविता परेशानी पर कविता प्रयास पर कविता प्रेरणादायक हिन्दी कविता भारत पर कविता मम्मी के लिये कविता माँ पर कविता संघर्ष पर कविता सकारात्मक सोच पर कविता सियासत पर कविता हिंदी कविता हिन्दी कविता हिन्दी कवितायें हिम्मत और ज़िन्दगी पर कविता
 

Motivational Hindi Poem-Zindagi

ज़िन्दगी (कविता का शीर्षक)
कभी कभी कुछ चीज़ें
अपने मन की भी कर लेनी चाहियें
क्योंकि ये जिंदगी बहुत छोटी है
उसे बस जी लेनी चाहिए
हर मोड़ पर आई रुकावटों का
सामना कर लेना चाहिए
हार मत मानना क्योंकि
ये जिंदगी एक ही है
उसे बस जी लेनी चाहिए
-मानसी गावंड (कवयित्री)

English Translation:

Zindagi (Life) (Title of the Poem)

Kabhi kabhi kuch cheezein (Sometimes few things)

Apne man ki bhi kar leni chahiye (should be done following your heart)

Kyonki ye zindagi bahut choti hai (Because this life is very short)

Use bas jee leni chahiye (We should live/enjoy our life)

Har mod par ayi rukawato ka (The hurdles we face at each step)

Samna kar lena chahiye (We must face them with courage)

Har mat maan na kyonki (Do not accept defeat because)

Ye zindagi ek hi hai (You have only one life to live)

Use bas jee leni chahiye (You must enjoy it)

-Mansi Gawand (Poetess)

Motivational Poem in Hindi-Himmat

woman-571715_960_720

हिम्मत

हिम्मत खुद में पैदा कर ले,
हालातों से डटके लड़ ले।
तभी मिलेगा तुझको सकून,
कम न हो कुछ पाने का जनून।
हार गए जो खुद से ही,
पार नहीं पाओगे जग से।
नहीं पाओगे चैन कहीं भी
रखो तो तुम पग हिम्मत करके।
क्या जाने क्या माने जग को,
ये तो सदा ही डराता रहा सबको।
हिम्मत जिस में आ जाती हैं,
हार नहीं वो पाता, मंजिल करीब आती है।

-संजय कर्णवाल