Tag Archives: बचपन पर कविता

Hindi Poem on Childhood-Chalo Phir Se Bacche Ban Jate Hain

चलो फिर से बच्चे बन जाते हैं
चलो फिर से बच्चे बन जाते हैं
लौट कर फिर एक बार स्कूल चले जाते हैं ..
बाज़ार के खिलौनों को चलो अपना बनाते हैं ..
छोटे से मोहल्ले में फिर से दौड़ लगाते हैं ..
चलो फिर से बच्चे बन जाते हैं ।
स्कूल की प्रेयर में आंखे खोल मुस्कुराते हैं ..
दोस्तों के साथ लुका-छिपी खेलने जाते हैं ..
साइकिल के पहिए फिर से घुमाते हैं ..
चलो फिर से बच्चे बन जाते हैं ।
होम-वर्क की डांट से बचने के बहाने बनाते हैं ..
“उसने ये किया उसने वो लिया” जैसी चुगली करने जाते हैं ..
शैतानी करके प्यारी सी मुस्कान से सबके दिल पिघलाते हैं ..
चलो फिर से बच्चे बन जाते हैं ।
पापा की छड़ी से बचने को मम्मी की गोदी में छिप जाते हैं ..
बड़ी बहन की नींद बिगाड़ कर फिर से सताते हैं..
घर आए मेहमान को अपनी कविता सुनाते हैं..
चलो फिर से बच्चे बन जाते हैं।
अब तो बाहर का खाने को मजबूर हो जाते हैं ..
माँ के हाथ से बने हुए टिफिन को हम अब भी ना भूल पाते हैं,
“माँ तेरी हर एक फिक्र, तेरा ज़िक्र खुदको हर पल कराते हैं”
ले चलो कोई मुझे उस डगर, जहां हम वापस बच्चे बन जाते हैं ।।
क्यों हम बड़े होकर अपने ही बड़ों पर चिल्लाने लग जाते हैं ??
किसी की छोटी सी गलती पर उनसे रिश्ते तोड़ आते हैं ..
थोड़ा सा बड़ा क्या हो गए, खुद को ज़यादा ही बड़ा समझने लग जाते हैं ।।
ना जाने क्यों हम चाहते हुए भी फिर से बच्चे नहीं बन पाते हैं ..।
अब कड़वी लगे ऐसी बात..
बड़े होते-होते हम सच्चाई की राह से भटकने लग जाते हैं ..
छोटी-छोटी बात पे झूठ के सहारे आगे बढ़ जाते हैं ..
मुश्किल चाहे कोई भी हो उसे बड़ा समझ गलती कर जाते हैं ..
ऐटिट्यूड और ईगो के चक्कर में अकेले ही अनजान राह पर भटक जाते हैं ।
शायद इसी लिए हम फिर से बच्चे नहीं बन पाते हैं ।।
-अनिकेत मिस्त्री

Chalo Phir Se Bacche Ban Jate Hain (Let us become kids again)
Chalo phir se bacche ban jate hain (Let us become kids again)
Laut kar phir ek baar school chale jata hain (Let us go back to school once again)
Bazaar ke khilono ko chalo apna banate hain (Let us make the toys sold in the market ours)
Chhote se mohalle mein phir se daud lagate hain (Let us have a race in our small street)
Chalo phir se bacche ban jate hain (Let us become kids again)
School ki prayer mein ankhein khol muskurate hain (Let us smile with our wide opens in the school assembly)
Dosto ke sath luka-chipi khelne jate hain (Let us play hide and seek with friends)
Cycle ke pahiye phir se ghumate hain (Let us ride the pedals of a bicycle again)
Chalo phir se bacche ban jate hain (Let us become kids again)
Homework ki daant se bachne ke bahane banate hain (Let us make excuses to avoid scolding for not completing the homework)
“Usne ye kiya, usne wo liya” jaisi chugli karne jate hain (“He did this, he took that” Let us make such complaints)
Shaitani karke pyari si muskan se sabke dil pighlate hain (After doing something naughty, let us smile and win everyone’s heart)
Chalo phir se bacche ban jate hain (Let us become kids again)
Papa ki chadi se bachne ko mummy ki godi mein chip jate hain (To hide from dad’s stick, let is hide in our mom’s lap)
Badi behan ki neend bigad kae phir se satate hain (Let us spoil the deep sleep of our elder sister and annoy her again)
Ghar aye mehman ko apni kavita sunate hain (Let us recite our poem to the guests visiting home)
Chalo phir se bacche ban jate hain (Let us become kids again)
Ab to bahar ka khane ko majbur ho jate hain (Now, we are forced to eat outside)
Maa ke hath se bane hue tiffin ko hum ab bhi nahin bhul paate hain (We cannot forget the tiffin prepared by our mom)
“Maa teri har ek fikra, tera zikra khud kohar pal karate hain.” (Oh mother, let us live your every concern and your talks once again)
Le chalo koi mujhe us dagar, jahan ham wapis bacche ban jate hain (Please somebody take me to a place where I can become a kid again)
Kyo ham bade hokar apne hi bado par chillane lag jate hain (Why do we start shouting at our elders when we become adults?)
Kisi ki choti si galti par unse rishte tod ate hain (Why do we break relations if someone commits a small mistake?)
Thoda sa bada kya ho gaye, khud ko zyada hi bada samajhne lag jate hain (We start developing ego as we are become adults)
Na jane kyo ham chahte hue bhi phir se bacche nahi ban paate hain (We don’t know why we are unable to behave like kids however hard we may try)
Ab kadwi lage aisi baat (The truth may seem bitter to you)
Bade hotey-hotey ham sacchai ki rah se bhatakne lag jate hain (We start shying away from the path of truth as we approach adulthood)
Choti-choti baat pe jhuth ke sahare aage badh jate hain (We lie on every small occasion)
Mushkil chahe koi bhi ho use bada samajh kar galati kar jate hain (We commit mistakes by considering every hurdle big)
Attitude aur ego ke chakkar mein akele hi anjan rah par bhatak jate hain (We are lost on a strange path because of our attitude and ego)
Shayad isi liye ham phir se bacche nahi ban paate hain (May be that’s the reason we are unable to behave like kids again)
–Aniket Mistri

Hindi Poem on Childhood-बचपन

बचपन दोपहर की कड़ी धूप में नंगे पाँव दौड़ जाना
जब गांव की गलियों को सरपट नाप आना
खेल खेल में यारो से दुश्मन सा लड़ जाना
कट्टी बट्टी के सिस्टम से सारे झगड़े निपटाना
वो मासूम सी शरारते,वो बेख़ौफ़ सी जिंदगी जाने कहाँ रह गयी,
जाने कहाँ रह गयी स्कूल न जाने के अनसुने बहाने ,
जाते थे कक्षा में चीखने चिल्लाने रेत के टीलों पर महल बनाकर ,
खुश होते थे कितना हम बेगाने नन्हे पैरो के वो बड़े होंसले,
चढ़ते थे पेड़ो पर आम खाने नीम के पत्तो को ज़मीं में छुपाकर,
सीखे थे हमने पैसे बनाने वो नादानियाँ,
वो शैतानिया वो अनगिनत बचखानिया जाने कहाँ रह गयी,
जाने कहाँ रह गयी वो कंचि,गीली डंडा और खो खो का खेल
वो गली क्रिकेट,सतोलिया और पेलमपेल सक्रांति की पतंगलूट
और मंझे के झोलमेल वो लंगड़ी टांग, साँपसीढ़ी, लूडो और रेल
वो सन्नाटा वो शोर,वो बेखुदी का दौर वो कटती पतंग की डोर,
वो खूबसूरत भोर, जाने कहाँ रह गयी, जाने कहाँ रह गयी
वो बैर तोड़ते कांटे चुभ जाना, वो इमली खाके दाँत बजाना
वो साइकिल सीखते गिर जाना वो मिटटी में सनकर घर जाना
बारिश में झूम झूम कर नहाना वो तीखी सी डाँट,
और रो जाना वो दादी नानी से रात-२बतियाना वो चोट की निशानिया
वो सच्ची सी कहानिया वो भोली सी शैतानिया वो मस्ती की रवानियाँ
जाने कहाँ रह गयी, जाने कहाँ रह गयी

-जीत

Bachpan dophar ki kadi dhoop mein nange paanv daud jana
Jab gaon ki galiyon ko sarpat naap aana
Khel khel mein yaaron se dushman sa lad jana
Katti batti ke system me sare jhgade niptana
Wo masoom si shararte, wo bekhof si zindagi jane kahan rah gayi
Jane kahan  rah gye school na jane ke ansune bahane
Jate they kaksh me chikhne chilane reit ke tilo me
Mahal bna ke tilon par mahal bnakar
Khush hote they kitna hum begaane nanhe peiron ke wo bade honslein
Chadte they pedon par aam kahne neem ke paton ko jami main chupakar
Sikhe they hamne pese bnanne wo nadaniyon
Wo shtaniya wo anginat bachkhaniya jane kahan  rah gayi
Jane kahan  rah gai wo kanchi,gili danda aur kho kho ka khel
Wo gali criket,stoliya aur peilmpeil sankrati ki patangloot
Aur manjhe ke jholmal wo langdi taang saanpsidi ,ludo aur rail
Wo sanaata wo shor,wo bekhudi ka dor wo katti patang ki dor
Wo khubsurat bhor jane kahan rah gayi jane kha rah gai
Wo beir todte kanta chub jana,wo emli kahan  ke daant bjana
Wo cycle sikhte gir jana wo mitti me sunkar ghar jana
Barish mein jhoom jhoom kar nhana wo tikhi si dant
Aur ro jana wo dadi nani se raat raat batiyana wo chot ki nishaniya
Wo sachi si khaniyaan wo bholi si shtaniya wo masti ki rawaniyaan
Jane kahan rah gai jane kahan rah gayi

-Jeet