भारत पर कविता

now browsing by tag

 
Hindi kavita Hindi kavita on life Hindi Poem on Bharat Hindi Poem on God Hindi poem on India Hindi Poem on Mother Hindi Poems Hindi Poems on Emotions Hindi poems on jeevan hindi poems on life struggle Hindi Poems on motherhood Hindi Poems on Motivation Hindi Poems on Positive Attitude Hindi poems with English translation Hindi Poetry Inspirational Hindi Poems inspirational poem in hindi for students Inspirational Poems Motivational Hindi Poems Motivational Poems Motivational Poems in Hindi poem on success and hard work in hindi Poetry Positive Attitude Hindi Poem Rape is crime poem self motivation poem hindi कविता जीवन पर ज़िन्दगी पर कविता जिंदगी पर शायरी जीवन के उतार-चढ़ाव पर कविता जीवन के सुख-दु:ख पर कविता जीवन पर कविता परेशानी पर कविता प्रयास पर कविता प्रेरणादायक हिन्दी कविता भारत पर कविता मम्मी के लिये कविता माँ पर कविता संघर्ष पर कविता सकारात्मक सोच पर कविता सियासत पर कविता हिंदी कविता हिन्दी कविता हिन्दी कवितायें हिम्मत और ज़िन्दगी पर कविता
 

Patriotic Hindi Poem- जय भारत

जय भारत जय,जय भारत जय, जय भारत जय
माँ हिमालय मुकट सोहे तेरे चरण धोए
गंगा चारो ऋतु सी तेरी चुन्नरी को चाँद-तारे सजाए माथे पर
सूरज की बिंदिया शोभा तेरी बढाए बाए तेरे ऊचे टीले दाए
ऊचे पर्वत तेरे आँचल सारी नदियां नीर बहे जैसे शरबत 
जल,थल, वायु तेरे भीतर खड़े तेरे पहरे लगाए
हिन्दू मुस्लिम सिख इसाई तेरे आगे शीश झुकाए
सब भाषाएं तेरी गीता हर रोज तुझे सुनाए डाले
अगर बुरी नज़र जो सबक उसे सिखाए
जय भारत जय ,जय भारत जय,जय भारत जय
माँ हिमालय मुकट सोहे तेरे चरण धोए गंगा।

–गरीना बिश्नोई

Jai Bharat jai, jai Bharat jai,jai Bharat jai,
Maa Himalaya mukut sohe tere charan dhoye
Ganga charon ritu si teri chunnari ko chaand tare sajaye mathe par
Suraj ki bindiya shoba teri bdaye baye tere uche tile daye
Unche parvat tere aanchal sari nadiyaan neer bahe jese sarbat
Jal, thal, vayu tere bheetar khade tere pahre lagaye
Hindu Muslim Sikh Isayi tere aage shis jhukaye
Sab bhashaye teri geeta har roz tujhe sunaye dale
Agar buri nazar sabak use sikhaye
Jai Bharat jai, jai Bharat jai,jai Bharat jai,
Maa Himalaya mukut sohe tere charan dhoye

-Greena Bishnoi

Hindi poem on India-देश का दुश्मन

देश का दुश्मन वही नहीं होता है
जो सीमाओं पर हमला करता है
जो आतंक फैलाता है स्मगलिग करता है।
देश का दुश्मन वह भी होता है
जो विकास की फाईले लटकाता है
विकास के नाम पर गावों को उजाड़ता है
दवाओं के अभाव मे बच्चो को मारता है
शिक्षा -स्वास्थ्य के मौलिक हक को व्यापार बनाता है
युवाओ के हाथो से काम छीनता है
देशवासियो के जाति-धर्म के शब्द बीनता है

-पुलस्तेय 

Desh ka dushman vaahee nahin hota hai
Jo seemaon par hamala karata hai
jJo aatank phailata hai meglig karata hai
Desh ka dushman vah bhee hota hai
Jo vikaas kee phaeele latakaata hai
Vikaas ka naam par gaavon ko ujaadata hai
Davaon ke abhaav mein bachcha ko maarata hai
Shiksha-svasth ka mool hak ko vyaapaar banaata hai
Yuvaon ke haathon se kaam chheenate hain
Deshavaasiyon ke jaati-dharm ke shabd binata hai.

-Pulsatey