लाइफ पर कविता

now browsing by tag

 
 

Hindi Poems on Life – अरमान

ये तुम्हारी कल्पना और बुद्धि का अंजाम है,
रास्ते हैं दो मगर वो एक ही पैगाम है ।
जब नहीं तुम जानते थे क्या ज़मीन क्या आसमान,
बंदगी जब थी नहीं क्यूं काफिरी बदनाम है।
आये थे जब वो तो आयी थी तुम्हारी इक किताब,
उससे पहले भी जहां में आदमी श्रीमान है।
उंगलियां अब मत उठाओ वक़्त का बदला मिज़ाज़,
था कभी वो वक़्त जब ज़िंदा चुना दीवार है।
कर दिया उसने कलम सिर बढ़ सकी न उसकी शान,
आज भी वो हम सभी के सीने में आबाद है।
मेरी नज़रों में सभी पैग़म्बरों की इक क़िताब,
मैंने देखी है ये गीता और वो कुरान है।
आदमी को आदमी से प्यार होना चाहिए,
इससे बढ़के बंदगी का न कोई फरमान है।
हम रहे या तुम रहो न कोई शिकवा न गिला,
फ़लसफ़ा इक हो ज़मीरी बस यही अरमान है।

– स्मृति तिवारी

Ye tumhari kalpana aur budhi ka anjaam hai
Raaste hai do magar wo ek hi pegaam hai
Jab nahi tum jante they kya jamin kya aasmaan
Bandgi jab thi nahi kyu kafiri badnaam hai
Aaye they jab woto aai thi tumhari ek kitab
Usse phale bhi aadmi jha me shrimaan hai
Ungliyaan ab mat uthao waqt ka badla mizaz hai
Tha kabhi wo waqt jab jinda chuna diwar hai
Kar diya usne kal seer badh saki na uski shaan
Aaj bhi wo hum sabhi ke sine me aabad hai
Meri nazron me sabhi pegambron ki ek kitab
Maine dekhi hai ye geeta aur ye kuran hai
Aadmi ko aadmi se pyar hona chahiye
Esse badke bandgi ka na koi farmaan hai
Hum rhe ya tum rho na koi shikwa na geela
Falsffa ek ho jamiri bs yhi armaan hai.

-Smriti Tiwari

Hindi Poems on Life- ज़िन्दगी के हर मोड़ पे

ज़िन्दगी के हर मोड़ पे खिल खिला के चल रहा था।
छोटी छोटी ज़िन्दगी के लिए ज़िन्दगी से लड़ रहा था।।
वो भी अढ़ गया कि इसको हर राह पर आजमानी ह।
एक पल के लिए मै भी सोचा ये कैसी मन मानी है ।।
हर जगह नए सवालों के साथ वो तैयार था।
अपनी ही मन मानी में वो अयार था।।
देख लेना ज़िन्दगी एक दिन खुद ब खुद मरेगा ।
चुनौती देते देते कभी ना कभी तो वो थकेगा।।
ज़िन्दगी हर मोड़ पर मेरी परीक्षा ली रही थी ।
जोकि शायद सही था पर वो बेखबर था कि खुदा वहीं था।।

– निखिल

Zindagi ke har mod pe khil khila ke chal rha tha
Choti choti zindagi ke liye zindagi se lad rha tha
Wo bhi ad gya ki esko har raah par aajmani hai
Ek pal ke liye main bhi socha ye kesi manmani hai
Har jagah aye swalon ke sath wo tayar tha
Apni hi man mani mein wo ayar tha
Dekh lena zindagi ek din khud b khud marega
Chunauti dete dete kabhi na kabhi to wo thakega
Zindagi har mod par meri pariksha le rahi thi
Joki sayad sahi tha par wo bekhabar tha ki khuda wahi tha

– Nikhil