Tag Archives: संघर्ष पर कविता

Hindi Poems on Life – चौराहा राह भटक गए

चौराहा राह भटक गए राह भटकते है
चौराहे भी आये जो मन को खटकते है।
एक रास्ता हो तो चले,आखिर कितने रास्ते चले।
मंजिल भी तो तय नही, किसके वास्ते चले।
इस चौराहे के हर रास्ते अलग मंजिल दर्शाते हैं।
कुछ लोग तो मंजिल पहुंचकर भी वापस लौट आते है।
ये अनजाने रास्ते मन को खटकते है।
राह भटक गए राह भटकते है।
ये अनजाने रास्ते और और कई सारे है
इनमे चलते चलते चलते हां… हम हारे है।

एक रास्ता,दो रास्ते राहगीर को परेशान कर देती राहे है।
मंजिल सामने फिर भी उसे ढूढती निगाहे है।
इन निगाहों कि तड़प को जानता है
हम सच भी कहे कौन मानता है
इस मंजिल को देखने के लिए आँखे तरसती है
कभी कभी तो बादलो की तरह बरसते है
वो तब जब राह भटकते है

चौराहे भी आये जो मन को खटकते है।
जिंदगी चार दिन की है चलते चलते गुजर जाएगी
जब हम आपसे दूर हो जाएंगे तब हमारी याद आएगी
मेरी चाहत बदलो सी है जिन्हें राहत मिलती नही ।
और मुस्कान……….. मुस्कान है
कांटो सी जो कभी खिलती नही।
कई तरह के सपने लेकर चैराहे में खड़े है।
कौन सा रास्ता सही रहेगा इसी सोच में पड़े है।
मंजिल डर नही हमारी मजबूरी है
एक रास्ता चुनना और उसमें चलना भी तो जरूरी है।

-संतोष

Chauraha raah bhatak gye raah bhtakte hai
Chauraha bhi aaye jo man ko khatkte hai
Ek rasta ho to chle, aakhir kitne raste chle
Manzil bhi tay nahi kiske vaste chale
Es chaurahe ke har raste alag raste alag manzil darshate hai
Kuch log to manzil phuch kar bhi bapis laut aate hai
ye anjane raste man ko khatkte hai
Raahbhatak gye raah bhatkte hai
Ye anjane raste aur kai sare hai
Enme chalte chalte haan hum hare hai

Ek rasta, do raste rahgeer ko pareshan kar deti hai
Rahe hai manzil samne fir bhi use dhundti nigaahe hai
En nigahoon ki tadap ko janta hai
Hum such bhi kahe kon manta hai
Es manzil ko dekhne ke liye aankhei tarsti hai
Kabhi to badlon ki tarh barsti hai
Wo tab jab raah bhatkte hai

Chaurahe bhi aaye jo man ko khatkte hai
Zindagi char din ki hai chalte chalte guzar jayegi
Jab hum aapse dur ho jayenge tab humari yaad aayegi
Meri chahat badlon si hai jinhe rahat milti nahi
Aur muskaan muskaan hai
Kanton si jo bhi khilati nhi
Kai tarh ke sapne lekar chaurahe me khade hai
Kon sa rasta sahi rhega yahi soch me pade hai
Manzil dar nahi hmari majburi hai
Ek rasta chunna aur chalna bhi to jaruri hai

-Santosh

Hindi Poems on Life – अरमान

ये तुम्हारी कल्पना और बुद्धि का अंजाम है,
रास्ते हैं दो मगर वो एक ही पैगाम है ।
जब नहीं तुम जानते थे क्या ज़मीन क्या आसमान,
बंदगी जब थी नहीं क्यूं काफिरी बदनाम है।
आये थे जब वो तो आयी थी तुम्हारी इक किताब,
उससे पहले भी जहां में आदमी श्रीमान है।
उंगलियां अब मत उठाओ वक़्त का बदला मिज़ाज़,
था कभी वो वक़्त जब ज़िंदा चुना दीवार है।
कर दिया उसने कलम सिर बढ़ सकी न उसकी शान,
आज भी वो हम सभी के सीने में आबाद है।
मेरी नज़रों में सभी पैग़म्बरों की इक क़िताब,
मैंने देखी है ये गीता और वो कुरान है।
आदमी को आदमी से प्यार होना चाहिए,
इससे बढ़के बंदगी का न कोई फरमान है।
हम रहे या तुम रहो न कोई शिकवा न गिला,
फ़लसफ़ा इक हो ज़मीरी बस यही अरमान है।

– स्मृति तिवारी

Ye tumhari kalpana aur budhi ka anjaam hai
Raaste hai do magar wo ek hi pegaam hai
Jab nahi tum jante they kya jamin kya aasmaan
Bandgi jab thi nahi kyu kafiri badnaam hai
Aaye they jab woto aai thi tumhari ek kitab
Usse phale bhi aadmi jha me shrimaan hai
Ungliyaan ab mat uthao waqt ka badla mizaz hai
Tha kabhi wo waqt jab jinda chuna diwar hai
Kar diya usne kal seer badh saki na uski shaan
Aaj bhi wo hum sabhi ke sine me aabad hai
Meri nazron me sabhi pegambron ki ek kitab
Maine dekhi hai ye geeta aur ye kuran hai
Aadmi ko aadmi se pyar hona chahiye
Esse badke bandgi ka na koi farmaan hai
Hum rhe ya tum rho na koi shikwa na geela
Falsffa ek ho jamiri bs yhi armaan hai.

-Smriti Tiwari