Tag Archives: सफ़लता पर कविता

Hindi Poem on Success-वो आज कामयाब है


वो आज कामयाब है, क्योंकि
जब वो जग रहे थे रातो में ,
तब हम सो रहे थे ख्वाबो में।
जब वो पढ़ रहे थे किताबो को ,
तब हम पढ़ रहे थे व्हाट्सप्प को।
जब वो कर रहे थे कोशिश
अपनों का सपना पूरा करने की,
तब हम कर रहे थे कोशिश गैरो का
सपना पूरा करने की ।
जब वो नजरबन्द थे एक कमरे में ,
तब हम दिख रहे थे सिटी मॉल,
सिनेमा हालो में । जब वो उलझे थे
किताबो से , तब हम उलझे थे
राजनीतिक मुद्दों से ।
जब वो उलझे थे देश-विदेश की खबरों में ,
तब हम उलझे थे गांव देश की फ़ोन कालो में ।
वो आज कामयाब है.

-राहुल पटेल

Wo aaj kamyaab hai kyuki
Jab wo jaag rahe they raaton mein
Tab hum so rhe they khwabon me
Jab wo padh rhe they kitabon ko
Tab hum padh rhe they whatsapp ko
Jab wo kar rhe they koshish
Apno ka sapna pura karne ki
Tab hum kar rhe thay koshish garon ka sapna pura kane ki
Jab wo nazar band they ek kamre mein
Tab hum dikh rhe they siti mall cinema haalon mein
Jab wo uljhe they kitaabon se
Tab hum uljhe they rajnatik mudho se
Jab wo desh videsh ki khabron mein
Tab hum uljhe they gaon ki phone callon mein
Wo aaj kamyaab hai

-Rahul Patel

Hindi Poem on Success – बदलेगी ये दुनिया


बदलेगी ये दुनिया
सोच तो बदल के देखो
ये लक्ष्य होंगे पूरे
मेहनत तो कर के देखो
गरीबी में जिओं
मगर ख़्वाब अमीरो का देखों
सारे खवाब होंगे पूरे
पहले सपने तो देखों
ज़िंदगी सुधर जायेगी
इंसान तो बन कर देखो
जीना मरना सबको है
ज़रा  महान बन कर देखो
झूठ तो बहुत बोले होंगे
कभी सच तो बोल कर देखो
सफल ज़रूर होंगे एक दिन
एक कदम तो बढ़ाकर देखो

-सौरव कुमार आदर्श

Badlegi ye duniya
Soch to badal ke dekho
Ye lakshay honge pure
Mehnat to karke dekho
Garibi me jio
Magar khawab amiro ka dekho
Sare khawab honge pure
Pahle sapne to dekho
Jindagi sudhar jayegi
Insan to bankar dekho
Jina-Marna to sabko hai
Jara Mahan bankar dekho
Jhuth to bahut bole hoge
Kabhi sach to bolkar dekho
Saphal jarur hoge ek din
Ek kadam to badhakar dekho

Saurav Kumar (Aadarsh)