Tag Archives: हिन्दी कवितायें

Hindi Poem on Water-पानी है धरती की शान


पानी है धरती की शान, पानी बचत हमारा काम
जीवन का ऐसा कोई काज नही,
बिना नीर हो उसका नाम अम्बु है अम्बर तक फैला,
सजते सागर नदी तालाब गीता और कुरान कहे है,
बिन जल बजे न कोई राग धरा में जल का सीमित भंडार,
जल सरंक्षण है हमारी जान बिन जल के समस्त चराचर,
ये दुनिया हो जाती शमशान जल से ही बनता है खून,
बिन जल के न होता शाम पानी है धरती की शान,
पानी बचत हमारा काम बिन पानी सब सून है,
खुद रहीम ने कह डाला जल से ही होती हरियाली,
चले झूम के हस्ती मतवाला फसलें भी चमकती सलिल से,
बसती इसमे सबकी जान पंछी भी कोकिल है मारे,
मछली की है जल में प्रान कोई पेय पीने को तरसे,
किसी की रहती जल में प्रान न करेंगे जल को जाया,
इसकी महत्ता का हो गया है ज्ञान जिस दिन सूखा वारि वसुधा से,
उस दिन आये संकट में प्राण जल से चले हैं सारे उद्योग,
जल से ही होती हमारी आन व्यर्थ करो न जल को तुम,
करो जरूरी अपना काम पानी है धरती की शान,
पानी बचत हमारा काम

-प्रदीप कुमार पटेल

Pani hai dharti ki shaan pani bachat hamara kaam
Jeevan ka koi esa kaaz nahi
Bina neer ho uska naam ambbu hai ambar tak feila
Sajte sagar nadi talaab geeta aur kuran  kahe hai
Bin bin baje na koi raag dhara me jal ka simit bhandaar
Jal saraksan hai hamari jaan bin jal ke samast charachar
Ye duniya ho jati hai shamshaan jal se banta hai khun
Bbina jal ke na hota sham pani hai dharti ki shaan
Pani bachat hamara kaam bin pani sab sun hai
Khud rahim ne kah dala jal se hi hoti haryali
Chale jhoom ke hasti matwala fasle bhi chamkti salil se
Basti esme sabki jaan panchi bhi kokil hai mare ,
Machli ki hai jal praan koi pay pine ko tarse
Kisi ki rahti jal me praan na kroge jal ko jaya
Eski mahata ko ho gya hai gyaan jis din sukha vaari vasuda se
Us din aaye sankat me pran jal se chale hai sare udhog,
Jal se hi hoti hai hamari aan vyarth karo na jal ko tum
Karo jaruri apna kam pani hai dharti ki shaan
Pani bachat hamara kaam

-Pradeep Kumar Patel

Hindi Poem on Towel – तौलिया पर कविता


towels-2822910_960_720

नहाने के समय मैं याद आता
गीले शरीर को हूँ मैं सुखाता
लपेट लो कमर पर धोती जैसे
या फिर सर पर पगड़ी जैसे
खलाड़ियों का बहता पसीना सूखा दूँ
खान पान वस्त्र पर गिरने से बचा लूँ
करता हूँ मैं सब काम बढ़िया
हाँ मैं हूँ आपका आम तौलिया
-अनुष्का सूरी

How to read:

Nahane ke samay main yaad ata

Geele shareer ko hoon main sukhata

Lapet lo kamar par dhoti jaise

Ya phir sir par pagdi jaise

Khiladiyon ka bahta paseena sukha du

Khan pan vastra par girne se bacha loon

Karta hoon main sab kam badhiya

Haan main hoon apka aam tauliya

English Translation:

You think of me when you are about to take bath

I make your wet body dry

You can drape me around your waist

You you may wrap me on your head

I can wipe off sweat of sportsmen

I can also protect your clothes from getting spoiled while eating

I do every work with perfection

Yes, I am your common towel

 

Hindi Poem on Jhansi Ki Rani – वो झाँसी की ही रानी थी


jhansi-ki-rani-laxmibai

हाथ में तलवार जिसने ठानी थी
हाँ वो झाँसी की ही  रानी थी
जिसके खून में मर्द सी रवानी थी
हाँ वो झाँसी की ही रानी थी
अंग्रेज़ो को जिसने याद दिलाई नानी थी
हाँ वो झाँसी की ही रानी थी
झाँसी के शहर की जो महारानी थी
हाँ वो झाँसी की ही रानी थी
-अनुष्का सूरी

How to read:

Hath mein talwar jisne thani thi

Haan wo Jhansi ki hi rani thi

Jiske jhoon mein mard si ravani thi

Haan wo Jhansi ki hi rani thi

Angrezo ko jisne yad dilayi nani thi

Haan wo Jhansi ki hi rani thi

Jhansi ke shahar ki jo maharani thi

Haan wo Jhansi ki hi rani thi

-Anushka Suri

English translation:

The lady who held a sword in her arms

Yes, she was the queen of Jhansi

The lady who had manly bravery in her blood

Yes, she was the queen of Jhansi

The lady who had taught a lesson to the Britishers

Yes, she was the queen of Jhansi

The lady who ruled the city of Jhansi

Yes, she was the queen of Jhansi

Hindi Poem On Freedom – उड़ान की शुरुआत


woman
लग रहा था  कि ये बात की शुरुआत होगी
पर क्या पता था की ये अंत की शुरुआत होगी
चलो शुरुआत  तो हुई , चाहे अंत की या शुरूआत  की
पिंजरे में कैद थी वो सोच रही थी फुर्र होने की
पर लगे उसके फड़फड़ाने ,हो गई शुरुआत उड़ान की
भरने लगी जब वो उड़ान तो उड़ ना सकी वो नादान
दम  तोड़ दिया उसने हो गई उसके अंत की शुरुआत
चाहे अंत की हो या उड़ान की
चाहे अंत की हो या उड़ान की
पर हो तो गई शुरुआत
 पर हो तो गई शुरुआत

-मानसी गोयल

Lag raha tha ki ye baat ki shruaat hogi…
par kya pta tha ki ye aant ki shruaat hogi…
chalo shruaat toh hui, chaahe aant ki ya shuruaat ki…
pinjade main kaid thi wo, soch rh thi furrr hone ki..
par lage uske phadfhadaane, ho gyi shruaat udaan ki…
bharne lagi jab wo udaan, toh udh na saki wo naadaan,
dam tod diya usne ho gyi uske aant ki shruaat…
chahe aant ki hui ho ya udaan ki…
chahe aant ki hui ho ya udaan ki…
par ho toh gyi shruaat…
par ho toh gyi shruaat..

-Mansi Goyal

Hindi Poems on Emotions- छोड़ आए


young-people-412041_960_720

बहुत पुराना घर छोड़ आए,
हम उन आँखों को तन्हा अकेला छोड़ आए,
गलियों से निकले कूचे छोड़ आए,
आँखों से निकले आंसू छोड़ आए,
दोस्ती के पुराने दोस्त छोड़ आए,
शहर क्या आ गए गाँव छोड़ आए,
चलते चलते ये किधर चले आए,
अकेले रह गए सब छोड़ आए,
समुन्दर में कितने भवंर छोड़ आए,
मोहबत के हसीं सफर छोड़ आए,
शामों में चुलबुली राते छोड़ आए,
सुबह की वो पहली किरण छोड़ आए,
कोयल की कूकती कूक छोड़ आए,
वो वारिस की पहली फूआर छोड़ आए,
ये कैसे पल आये की सब छोड़ आए,
क्यों तन्हा अकेला तुम्हे छोड़ आए,
क्यों बहुत पुराना वो घर छोड़ आए।

-गौरव

Bahut purana ghar chhod aaye
hum un aankhon ko tanha akela chhod aaye
galiyon se nikle kuche chhod aaye
aankhon se nikle aansu chhod aaye
dosti k purane dost chhod aaye
shar kya aa gye gaon chhod aaye
chalte chalte ye kidhar chle aaye
akele reh gye sab chhod aaye
smunder me kitne bhbar chhod aaye
mhhobbat k hasi sfr chhod aaye
shamo me chul buli raatein chhod aaye
subh ki wo phli kiran chhod aaye
koyal ki kukti kuk chhod aaye
wo barish ki phali faar chhod aaye
ye kese pal aaye ki sab chhod aaye
kyon tanha akela tumhe chhod aaye
kyon purana ghr chhod aaye

-Gurav