हिन्दी कवितायें

now browsing by tag

 
 

Hindi Poem on Jhansi Ki Rani – वो झाँसी की ही रानी थी

jhansi-ki-rani-laxmibai

हाथ में तलवार जिसने ठानी थी
हाँ वो झाँसी की ही  रानी थी
जिसके खून में मर्द सी रवानी थी
हाँ वो झाँसी की ही रानी थी
अंग्रेज़ो को जिसने याद दिलाई नानी थी
हाँ वो झाँसी की ही रानी थी
झाँसी के शहर की जो महारानी थी
हाँ वो झाँसी की ही रानी थी
-अनुष्का सूरी

How to read:

Hath mein talwar jisne thani thi

Haan wo Jhansi ki hi rani thi

Jiske jhoon mein mard si ravani thi

Haan wo Jhansi ki hi rani thi

Angrezo ko jisne yad dilayi nani thi

Haan wo Jhansi ki hi rani thi

Jhansi ke shahar ki jo maharani thi

Haan wo Jhansi ki hi rani thi

-Anushka Suri

English translation:

The lady who held a sword in her arms

Yes, she was the queen of Jhansi

The lady who had manly bravery in her blood

Yes, she was the queen of Jhansi

The lady who had taught a lesson to the Britishers

Yes, she was the queen of Jhansi

The lady who ruled the city of Jhansi

Yes, she was the queen of Jhansi

Hindi Poem On Freedom – उड़ान की शुरुआत

woman
लग रहा था  कि ये बात की शुरुआत होगी
पर क्या पता था की ये अंत की शुरुआत होगी
चलो शुरुआत  तो हुई , चाहे अंत की या शुरूआत  की
पिंजरे में कैद थी वो सोच रही थी फुर्र होने की
पर लगे उसके फड़फड़ाने ,हो गई शुरुआत उड़ान की
भरने लगी जब वो उड़ान तो उड़ ना सकी वो नादान
दम  तोड़ दिया उसने हो गई उसके अंत की शुरुआत
चाहे अंत की हो या उड़ान की
चाहे अंत की हो या उड़ान की
पर हो तो गई शुरुआत
 पर हो तो गई शुरुआत

-मानसी गोयल

Lag raha tha ki ye baat ki shruaat hogi…
par kya pta tha ki ye aant ki shruaat hogi…
chalo shruaat toh hui, chaahe aant ki ya shuruaat ki…
pinjade main kaid thi wo, soch rh thi furrr hone ki..
par lage uske phadfhadaane, ho gyi shruaat udaan ki…
bharne lagi jab wo udaan, toh udh na saki wo naadaan,
dam tod diya usne ho gyi uske aant ki shruaat…
chahe aant ki hui ho ya udaan ki…
chahe aant ki hui ho ya udaan ki…
par ho toh gyi shruaat…
par ho toh gyi shruaat..

-Mansi Goyal