Hindi Rhymes For Kids

now browsing by tag

 
 

Hindi Poem on Ant – चींटी हूँ मैं 

ant-697329_960_720
हाँ चींटी हूँ मैं 
हूँ तो बहूत छोटी सी
बलशाली भी मैं थोड़ी सी
कान मैं घुस जाऊँ अगर कभी
तो जीना मुशकिल कर दूँ अभी
चीनी का टुकड़ा रख दो यही
ढूंढते हुए मैं आ जाऊँ
चींटी हूँ मैं
हाँ चींटी हूँ मैं
– अनुष्का सूरी

 

Cheenti hu main
Han cheenti hu main
Hu to bahut choti si
Balshali bhi main thodi si
Kan mein ghus jau agar kabhi
To jeena mushkil kar doon abhi 
Cheeni ka tukda rakh do yahin
Dhundte hua main aa jaoon 
Cheenti hu main
Han cheenti hu main
– Anushka Suri

Hindi Poem on Newspaper- Main Hoon Akhbar

news

मैं हूँ अख़बार
भाई मैं हूँ अख़बार
पढ़लो मुझे सुबह सुबह
तो पता लगे समाचार
मैं हूँ अख़बार
भाई मैं हूँ अख़बार
जब मैं पुरानी हो जाती
तब भी मेरा है कारोबार
मैं हूँ अख़बार
भाई मैं हूँ अख़बार
मुझपे  भेल पूरी सजती
चना जोर गर्म मुझमें बिकती
मैं हूँ अख़बार
भाई  मैं  हूँ अख़बार
मुझको पढ़ना  है अगर
तो बनो पहले साक्षर
मैं हूँ अख़बार
भाई मैं हूँ अख़बार
– अनुष्का सूरी
 
 
 
Main hoon akhbar
Bhai main hoon akhbar
Padh lo mujhe subah subah
To pata  lagey samachar
Main hoon akhbar
Bhai main hoon akhbar
Jab main purani ho jati
Tab bhi mera hai karobaar
Main hoon akhbar
Bhai main hoon akhbar
Mujhpe bhel puri sajti
Chana jor garam mujhmein bikti
Main hoon akhbar
Bhai main hoon akhbar
Mujhko padhna hai agar
To bano pehle sakshar
Main hoon akhbar
Bhai main hoon akhbar
 
– Anushka Suri