Hindi Poem on Demonetization: नोटबंदी पर कविता


money-1811934_960_720

बंद हुए है पाँच सौ हज़ार
चारो तरफ है हाहाकार
बैंक के आगे लगी कतार
ए टी ऍम में भीड़ भरमार
काला धन जिसका भरमार
वो करो घोषित भरो आयकर
गरीब अमीर व्यापार घर संसार
सबपे है भारी नोटबंदी का विचार

-अनुष्का सूरी
Band hue hain paanch sau hazaar
Chaaro taraf hai hahakar
Bank ke aage lagi kataar
Atm mein bheed bharmar
Kala dhan jiska bharmar
Wo karo ghoshit bharo aykar
Gareeb ameer vyapaar ghar sansar
Sabpe hai bhari notebandi ka vichar

-Anushka Suri

Advertisements

Hindi Poem on Water- मैं पानी की बूँद हूँ छोटी


drops-of-water-578897_960_720

मैं पानी की बूँद हूँ छोटी,
मैं तेरी प्यास बुझाऊँ।
पी लेगा यदि तू मुझको ,
मैं तुझको तृप्त कराऊँ।
मैं छोटी सी बूँद हूँ,
फ़िर क्यों न पहचाने?
तू जाने न सही मग़र,
किस्मत मेरी ऊपर वाला जाने।
मैं पानी की बूँद हूँ छोटी,
फ़िर क्यों खोटी मुझको माने?
भटकता फ़िर रहा है तू,
और क्यों अनजान है तू?
तेरी महिमा मैं तो समझूँ न,
जाने तो ऊपर वाला जाने।
मैं पानी की तुच्छ बूँद हूँ,
फ़िर मेरी महत्ता क्यों न जाने?
ज़ीवन रूपी इस पथ पर ,
तुझे अकेले चलना है।
मैं भी चलूँ तेरे साथ -साथ,
और मुझे क्या करना है?
तू पी अपनी प्यास बुझा,
हमें ग़म नहीं है कुछ भी।
काम ही मेरा और क्या है ?,
केवल मुझे सिमट कर चलना है।
अस्तित्व ही यह मेरा है,
मुझे तुझमें रह जाना है।
मैं पानी की बूँद हूँ छोटी,
फ़िर हालातों को क्यों न तुम पहचानो?
तेरे सहार मुझसे है,
और मेरा सहारा तुझसे।
तू तो मुझ पर आश्रित है,
और सब मेरे दीवाने।
तू मर जाएगा मेरे बिन ,
फ़िर क्यों न मुझको पहचाने?
मैं पानी की बूँद हूँ छोटी,
फ़िर क्यों तुम व्यर्थ बितराओ?
बूँद -बूँद से घड़ा भरा है,
क्यों तुम ऐसा न कर पाओ?
यदि रखोगे सुरक्षित तुम मुझको,
मैं तो सागर बन जाऊँ।
अग़र करोगे न तुम ऐसा,
तो मैं तुच्छ बूँद भी न रह पाऊँ।
मैं पानी की बूँद हूँ छोटी,
मैं तेरी प्यास बुझाऊँ।
-सर्वेश कुमार मारुत

Main pani ki boond hoon choti
Main teri pyas bhujau
Pi lega yadi tu mujko
Main tujko trapat kraaun
Main choti si boond hoon
Fir kyon na phuchane
Tu jane na shi magar
Kismat meri upr wala jane
Main pani ki boond hoon choti
Fir kyon khoti mujko mane
Bhatkta fir rha hai tu
Aur kyon anjaan hai tu
Teri mahima main to smjhu na
Jane to upr wala jana
Main pani ki tuchh boond hoon
Fir meri mhanta kyon na jane
Jivan rupi es path par
Tuje akele chlna hai
Main bhi chalu tere sath sath
Aur muje kya karna hai
Tu pi apni pyas bhujha
Hme gam nai hai kuch bhi
Kaam hi mera aur kya hai
Kewal mujse simat kr chalna
Aastitav hi mera hai
Muje tujh me rhna hai
Main pani ki boond hu choti
Fir halaton ko kyon n tum phuchano
Tere shara h mujse
Mera shara h tujhse
To to mujh pr aarshit h
Aur sab mere diwane
Tu mar jayega mere bin
Fir kyon na mujko phuchane
Main ki boond hu choti
Fir kyon tum vyarth bitaro
Boond boond se ghda bhra hai
Kyon tum esa na kr pao
Yadi rkho ge surashit tum mujhko
Main to sagar ban jau
Agr kroge na tum esa
To main tuchh boond bhi na rh pau
Main pani ki boond hu choti
Main teri pyas bujhau

– Servesh Kumar Marut