Hindi Poems on Life-ज़िन्दगी


ज़िन्दगी कभी हँसाती है कभी रुलाती है
कभी ख़ुशी देती है कभी गम देती है
फिर भी जीना तो हर हाल में पड़ता है
कुछ खो कर,तो कुछ पा कर रहना पड़ता है
बस यही ज़िंदगी है यही सब कुछ है
कुछ भी नहीं पास मेरे
तेरी यादें ही सब कुछ है
सब कुछ खो कर भी
बहुत सारी यादें छोड़ जाती है
ज़िन्दगी कभी हँसाती है कभी रुलाती है
कभी खुशी कभी गम दे जाती है
रोने से क्या होगा हमेशा खुश रहना चाहिए
सबकी खुशी  के लिए हमेशा खुश रहना चाहिए
अपने लिए ना सही अपनों के लिए जीना चाहिए
बस -बस ऐसे ही ज़िन्दगी जीना चाहिये  
ज़िन्दगी हर सुख़ हर सुख में
बहुत कुछ सिखाती है
ज़िन्दगी कभी हँसाती है कभी रुलाती है
कभी खुशी दे जाती है कभी गम दे जाती है
कुछ भी नहीं है मेरे पास ये सोचना छोड़ दो
हर दुःख ,तकलीफो को भूल कर  
ज़िन्दगी जिओ तुम्हारा खुश रहना ही
तुम्हारी ज़िन्दगी है सबको प्यार दो, खुशी दो , 
छोटी ही सही पर ज़िन्दगी यही सिखाती है
कभी हँसाती है कभी रुलाती है
कई यादें दिल में छोड़ जाती है
किसी से कुछ भी उम्मीद मत रखो
सदा आगे बढ़ते रहना चाहिए
ज़िन्दगी कभी हँसाती है कभी रुलाती है
कभी खुशी देती है कभी गम देती है

– नितेश शर्मा

Zindagi kabhi hasati hai, kabhi rulati hai,
Kabhi khushi deti hai, kabhi gam de jaati hai,
Phir bhi jeena to har haal me padta hai,
Kuch khokar, to kuch paakar rehna padta hai,
Bas yahi zindagi hai, yahi sab kuch hai,
Kuch bhi nahi paas mere,
Teri yaade he sab kuch hai,
Sab kuch khokar bhi,
Bohot saari yaade chhod jaati hai.
Zindagi kabhi hasati hai, kabhi rulati hai,
Kabhi khushi deti hai, kabhi gam de jaati hai,
Rone se kya hoga, hamesha khush rehna chahiye,
Sabki khushi ke liye, hamesha khush rehna chahiye,
Apne liye na sahi, apno ke liye jeena chahiye,
Sabko khush rakho, sabko saath lekar chalna chahiye,
Bas bas aise he zindagi jeena chahiye.
Zindagi har sukh, har dukh me
Bohot kuch sikhati hai,
Zindagi kabhi hasati hai, kabhi rulati hai,
Kabhi khushi deti hai, kabhi gam de jaati hai,
Kuch bhi nahi hai mere paas, ye sochna chhod do,
Har dukh, taklifo ko bhool kar
Zindagi jio, tumhara khush rehna he,
Tumhari zindagi hai, sabko pyar do, khushi do,
Chhoti he sahi, but zindagi yahi sikhati hai,
Kabhi hasati hai, kabhi rulati hai,
Kai yaade dil me chhod jaati hai,
Kisi se kuch bhi ummid mat rakho,
Sada aage badhte rehna chahiye,
Zindagi kabhi hasati hai,kabhi rulati hai,
Kabhi khushi deti hai, kabhi gum deti hai,

-Nitesh Sharma

 

Advertisements

Hindi Poem on Vijaydashmi -रामायण के छोटे से भाग की कथा


आज सुनाती हूँ मैं रामायण के छोटे से भाग की कथा
क्यों लिया माँ सीता ने अपनी परीक्षा की प्रथा या
उत्पन हुआ था रावण के उस पाप से जो कहा गया है
मिला था उसको श्राप से उसने किया माँ सीता का अपहरण
और उन्हें लंका में ले आया ना जाने कितना किया परेशान
और ना जाने कितनी बार धमकाया प्रभु राम ने
जब मारा उसकी नाभि पे वार तब हुआ पाप का अंत और
उस पापी का संघार मनाया गया दिन वह
तब से दशहरा प्रसन्नता के रंग खिले लाल गुलाबी हरा सुनेहरा
परन्तु देश मे आज भी ऐसे पाप है
ऐसे रावण को जलाना हमें अपने आप है
देश में ऐसे रावण आते रहेंगे पर हमें प्रण लेना है
कि हम ऐसे रावण को मिटाते रहेंगे
हम समाज में कुछ ऐसे लाएँ कि ऐसे रावण आ ही ना पाये
हम कुछ ऐसा करे बार बार की इस देश का हो सुधार /em>
हमको करना होगा वो काम जिससे हमारे
फौजी पुलिस भी कर सके आराम
-जाह्नवी

Aaj sunati hoon mai Ramayan ke chote se bhaag ki katha
Kyu liya maa Sita ne agani pariksha ki paratha
Yah utpan hua tha Ravan ke us pap se jo kaha gaya hai
Mila tha usko shrap se Usne kiya maa Sita ka apharan
Aur unhe Lanka mai le aya na jane kitna kiya pareshan
Aur na Jane kitni baar dhamkaya Prabhu Ram ne
Jab mara uski naabhi pe vaar tab hua paap ka ant aur
Us papi ka sanghaar Manaya gaya din vah
Tab se Dussehera Parsannata ke rang khile lal, gulabi, hara, sunehera
Parantu desh mai aaj bhi aise paap hai
Aise Ravan ko jalana hume apne aap hai
Desh mei aise Ravan aate rahege par humein pran lena hai
Ki hum aise Ravan ko mitate rahenge
Hum samajh mai kuch aisa layein ki aise Ravan aa hi na paye
Hum kuch karein aisa baar baar ki is desh ka ho sudhaar
Humko karna hoga vo kaam jisse hamare
Fauji police bhi kar sakein araam
Jahnvi

Hindi poem on Earth- धरती मां की गोद




हंसी-हंसी से बनी मुस्कान मां कहती
मुझसे धरती भी तेरी मां बनी,
खेल- कूद लपक -झपक तु इस पर ही आएगा
सिंचे इसमें जो खून पसीना वो कहलावे किसान।
हंसी-हंसी से बनी मुस्कान, हंसी-हंसी से बनी मुस्कान।
लोट-पोट हो जाऊं इसमें नींद न आवे तो सो जाऊं इसमें,
प्रकृति कि पूजा भगवान का नाम दूजा
इसका जो करें उच्चार वो कहलावे इंसान।
हंसी-हंसी से बनी मुस्कान, हंसी-हंसी से बनी मुस्कान।

-आशिफ अंसारी

Hansi hansi se bani muskaan maa kahati
Mujhse dharti bhi teri maa bani
Khel-kud lapak-jhpak tu es par hi aayega
Sinchhe esme jo khun pasina wo kahlaave kisaan
Hansi hansi se bani muskaan, hansi hansi se bni muskaan
Hansi hansi se lot-pot ho jaun esme neend na aawe to so jaun esme
Prakarti ki pooja bhgwaan ka naam dooja
Eska jo kare uchchaar wo kahlaave insaan
Hansi hansi se bani muskaan, hansi hansi se bni muskaan

-Asif Ansari

Hindi Poems on Father’s Day-भगवान के जैसा धरती पर


भगवान के जैसा
धरती पर ही
मिलता है जो वो
कहलाता है पिता

थाम के उंगली जब पहली बारी
उसके जिगर का टुकड़ा चला
एहसास ये उसके जीवन में जैसे
ख़ुशियों का मेला सजाता चला
जिस प्यार का कोई मोल नहीं
उस प्यार को है निभाता पिता

अपने दुखों को भूल ही जाता
देख के सारे दुःख को मेरे
मेरी हंसी के लिये खुद ही देखो
बन जाता है वो खिलौना मेरा
एक ओर चाहे दुनिया कहे कुछ भी
हमेशा तेरे संग चलता पिता

भगवान के जैसा
धरती पर ही
मिलता है जो वो
कहलाता है पिता

-शुभाशीष उपाध्याय

Bhagwaan ke jaisa
Dharti par hi
Milta hai jo wo
Kehlaata Pita

Thaam ke ungli jab pehli baari
Uske Jigar ka tukdaa chalaa
Ehsaans yeh uske jeevan mein jaise
Khushiyon ka mela sajaata Chalaa
Jis pyaar ka koi mol nahin
Us pyaar ko hai nibhaata Pita..

Apne dukho ko bhul hi jaata
Dekh ke saare dukh ko mere
Meri hansi ke liye khud hi dekho
Ban jaata hai wo khilaunaa mera
Ek aur chahe duniya kahe Kuch bhi
Hamesha tere Sangh chalta Pita

Bhagwaan ke jaisa
Dharti par hi
Milta hai jo wo
Kehlaata Pita

-Shubhashish Upadhyay

Hindi Poem on Charity-दान


पवित्र जिसकी कामना
उसका अतुल्य मोल है
अर्पण हुए जो प्रेम से
वह दान भी अनमोल है ।

चित्त हर्ष से दिए दान से
स्वच्छंद हो ये आत्मा
बङभाग उसके हैं
बहुत जिसको मिला परमात्मा ।

इच्छाएं पनपे मन में
दिए दान का जो बखान हो
फिर मिलेगा फल कहाँ
व्यर्थ ही सब काम हो ।

दान वही साकार है
जिसमें अहम का नाश हो
छल-कपट न हो
जहाँ चित्त प्रेम का ही दास हो ।

-मुकेश नेगी

Pavitra jiski kamana
Uska atulya mol hai
Arpan hue jo prem se
Veh daan anmol hai

Chit harsh se diye daan se
Svachhand ho ye aatama
Badbhag uske hai
Bahut jisko mila Parmatama

Icchayein panpein man mein
Diye daan ka jo bakhan ho
Fir milega fal kahan
Vyarth hi sab kaam ho

Daan wahi sakaar hai
Jisme inaham ka nash ho
Chhal kapat na ho
Jahan chit prem ka hi daas ho

-Mukesh Negi