Hindi Poem for Father- मेरी ज़िन्दगी का


मेरी ज़िन्दगी का बहुत बड़ा हिस्सा हो आप पापा
मेरी ज़िन्दगी का दूसरा नाम हिस्सा हो आप पापा
थाम कर ऊँगली हमारी आप ने चलना सिखाया
हमारे बचपन को मज़ेदार बनाने के लिए आपने क्या नहीं किया पापा 
मेरी ज़िन्दगी का बहुत बड़ा हिस्सा हो आप पापा 
मेरी ज़िन्दगी का दूसरा नाम हिस्सा हो आप पापा 
मुझे आज भी अच्छी तरह याद है वो बचपन के दिन जब हम स्कूल जाने के लिए तैयार हुआ करते थे 
तब आप मुँख से राम का गुणगान करके बच्चो को भजन सुना के हमारा दिन अच्छा करते थे 
लोग तो यह कहते की मुझे अपने पापा से यह मिला वो मिला 
पर मैं तो यह कहता हूँ की मुझे तो अपना नाम भी आप से ही मिला है पापा 
मेरी ज़िन्दगी का बहुत बड़ा हिस्सा हो आप पापा 
मेरी ज़िन्दगी का दूसरा नाम हिस्सा हो आप पापा 
स्कूल से कोई भी शिकायत आने पर आप अध्यापिका जी की शामत लगा देते थे 
होली हार्ट स्कूल के सम्मान में कोई भी वार्षिकोत्सव में मुख्य अतिथि बन के आप ही जाते थे न पापा 
मेरी ज़िन्दगी का बहुत बड़ा हिस्सा हो आप पापा 
मेरी ज़िन्दगी का दूसरा नाम हिस्सा हो आप पापा 
ज्योति केमिकल से बिज़नेस की शरुवात की 
ज्योति केमिकल से दीपशिला ऑटो भी बनाई आपने 
एक ही दिन में दिल्ली गुजरात घूम के पंजाब वापिस आ जाते थे पापा 
मेरी ज़िन्दगी का बहुत बड़ा हिस्सा हो आप पापा 
मेरी ज़िन्दगी का दूसरा नाम हिस्सा हो आप पापा 
जो काम कोई नहीं कर सकता वो काम आप कर सकते हो,
अरे ! लोग तो अपनों के काम नहीं आते, पर हमने तो आपको दुश्मन का भी साथ देते हुए देखा हैं 
बड़ बड़े बिज़नेसमैन, एडवोकेट, मिनिस्टर आपसे राय लेने आते है 
मेरी ज़िन्दगी का बहुत बड़ा हिस्सा हो  आप पापा 
मेरी ज़िन्दगी का दूसरा नाम हिस्सा हो आप पापा 
जब समय थोड़ा ख़राब आया तब आपने हिम्मत न हारी,
हमारे चेहरे पे मुस्कान देखने के लिए आपने दिन रात एक कर दिया 
ज़िन्दगी को कैसे जीना, और संघर्ष करके मुश्किलों से कैसे निपटना  तो आपने ही हमे सीखाया है पापा 
मेरी ज़िन्दगी का बहुत बड़ा हिस्सा हो आप पापा 
मेरी ज़िन्दगी का दूसरा नाम हिस्सा हो आप पापा 
जब आपको हर तरफ से निराशा हाथ लगी,
तब आपने उस निराशा में भी आशा की किरण देखी 
हमारे पालन पोषण के लिए, आपने अपनी ज़िन्दगी को दाव पे लगा दी,
पैसा तो सब कमाते हैं, पर आप जैसी इज़्ज़त कोई नहीं कमा सकता पापा 
मेरी ज़िन्दगी का बहुत बड़ा हिस्सा हो आप पापा 
मेरी ज़िन्दगी का दूसरा नाम हिस्सा हो आप पापा 
जब मेरी कॉलेज की पढाई शरू हुई, तब आप पे मेरी फ़ीस की ज़िम्मेदरी और बड़ गयी,
तब आप ने  मेरी पढाई के लिये, आपने अपना पेट काट कर पैसा इकठ्ठा किया,
मेरी पढाई के लिए अपनी सारी जमा – पूँजी तक लगा दी,
आप ने अपनी ज़िन्दगी तक लगा दी हमारे वासते, हम भी वो नहीं बन पाए जो चाहते थे पापा !
मेरी ज़िन्दगी का बहुत बड़ा हिस्सा हो  आप पापा 
मेरी ज़िन्दगी का दूसरा  नाम हिस्सा हो आप पापा 
डर सा गया था जब मैं उन अँधेरी गलियों से, तब आपने ही मुझे उन गलियों से निकाला था,
खुद रात को जाग कर मुझे पढ़ाया, जब भी मैंने तन्हा महसूस किया तब आपने ही मुझे सहारा दिया
आज आपका बर्थडे है, मुझे ख़ुशी है इस बात की, पर मैं आपको क्या गिफ्ट दू जो बराबरी करे आपकी,
लोग कहते है की भूषण तुम बहुत अच्छा लिखते हो, पर भूषण को लिखने के काबिल बनाया है आपने पापा
मेरी ज़िन्दगी का बहुत बड़ा हिस्सा हो आप पापा 
मेरी ज़िन्दगी का दूसरा नाम हिस्सा हो आप पापा 

-भूषण धवन

Meri zindgi ka bahut bada hissa ho aap papa
Meri zindgi ka dusra naam hissa ho aap papa
Tham kar ungli hamari aapne chalna sikhaya
Hamare bachpan ko majedar banane ke liye aapne kya nahi kiya papa
Meri zindgi ka bahut bada hissa ho aap papa
Meri zindgi ka dusra naam hissa ho aap papa
Mujhe aaj bhi yaad ha wo bachpan ke din jab hum school jaane ke liye taiyar hua karte the
Tab aap mukh se raam ka gungaan karke bachho ko bhajan suna ke hamara din accha karte the
Log to kehte hai ki mujhe apne papa se yeh mila wo mila
Par main to ye kehta hu mujhe to apna naam bhi aapse hi mila hai papa
Meri zindgi ka bahut bada hissa ho aap papa
Meri zindgi ka dusra naam hissa ho aap papa
School se koi bhi shikayat aane par aap adhyapica ji ki shamat laga dete the
Holy heart school ke samman me koi bhi varshikutsav main mukhya atithi banke aap hi jaate the na papa
Meri zindgi ka bahut bada hissa ho aap papa
Meri zindgi ka dusra naam hissa ho aap papa
Jyoti chemical se business ki shuruaat ki
Jyoti chemical se deepshila auto bhi banayi aapne
Ek din me hi Delhi se Gujarat ghum Punjab vapis aa jate the papa
Meri zindgi ka bahut bada hissa ho aap papa
Meri zindgi ka dusra naam hissa ho aap papa
Jo kaam koi ni kr sakta vo aap kar sakte ho
Are log to apno ko kaam nahi aate par hamne to aapko
Dushman ka sath dete huye bhi dekha hai
Bade bade Businessmen Advocate Ministry aapse rai lene aate hai
Meri zindgi ka bahut bada hissa ho aap papa
Meri zindgi ka dusra naam hissa ho aap papa
Jab samay thoda kharab aaya tab aapne himmat nahi hari
Hamare chehre pe muskaan dekhne ke liye aapne din raat ek kar diya
Zindgi ko kaise jeena aur sangharsh karke mushkilo se
kaise nipatna to aapne hi hamein sikhaya hi sikhaya hai papa
Meri zindgi ka bahut bada hissa ho aap papa
Meri zindgi ka dusra naam hissa ho aap papa
Jab aapko har taraf se nirasha hath lagi
Tab aapne us nirasha me bhi asha ki kiran dekhi
Hamare palan poshan ke liye aapne apni zindgi ko dav pe laga di
Paisa to sab kamate hai par aap jaise izzat koi nahi kama sakta papa
Meri zindgi ka bahut bada hissa ho aap papa
Meri zindgi ka dusra naam hissa ho aap papa
Jab meri collage ki padayi shuru huyi tab aap pe meri fees ki jimeedari aur bad gayi
Tab aapne meri padayi ke liye apana pet katkar paisa ikattha kiya
Meri padayi ke liye aapne apni sari jama – punji tak laga di
Aap ne apni zindgi tak lga di hamare vaste hum wo bhi nahi ban paye jo aap chahte the papa
Meri zindgi ka bahut bada hissa ho aap papa
Meri zindgi ka dusra naam hissa ho aap papa
Dar sa gaya tha jab main un andheri galiyon se, tab aapne hi mujhe un galiyon se nikala tha
Khud raat ko jagkar mujhe padaya jab bhi maine tanha mehsus kiya tab aapne hi mujhe sahara diya
Aaj aapka birthday hai mujhe khushi hai is baat ki par main aapko kya gift du jo barabari kare aapki
Log kehte hai Bhushan tum bahut achha likhte ho, Par Bhushan likhne ke kabil aapne banya papa
Meri zindgi ka bahut bada hissa ho aap papa
Meri zindgi ka dusra naam hissa ho aap papa

-Bhushn Dhawan

Advertisements

Hindi Poem on Book – मैं एक किताब हूँ


तो अम्बर सी ऊंचाई भी है,
एक ख्वाबों की दुनिया है
तो अत्यधिक सच्चाई भी है
इतिहास समेटू चंद पन्नों पर
तो आज का आइना भी दिखलाऊँ मैं,
रहती हूँ खामोश तो अक्सर
मगर भविष्य भी बन जाऊँ मैं
हर विकास की जड़ भी मैं
तो समस्त शिक्षित की नींव हूँ,
किसी के लिए समस्या बनूँ
तो किसी के लिए समाधान भी हूँ
व्यक्त न हो पाएं जज़्बात जो
उनके लिए वक्ता भी हूँ,
हर पीड़ा की दवा हूँ
तो हर धनवान का स्त्रोत भी हूँ
परम मित्र भी बन जाऊँ मैं
सर्वश्रेष्ठ सलाहकार हूँ,
अकेलेपन की साथी भी हूँ
हाँ, ऐसी मैं एक किताब हूँ 

-आकांक्षा भटनागर

To ambar si unchai bhi hai,
Ek khwaabon ki duniya hai
To atyadhik sacchai bhi hai.
Itihaas sametu chand panno par
To aaj ka aaina bhi dikhlau main,
Rehta hun khamosh to aksar
Magar bhavishya bhi ban jau main.
Har vikas ki jad bhi main
To samast sikshit ki neev hun,
Kisi ke liye samasya banu
To kisi ke liye samadhan bhi hun .
Vyakt na hopaye jazbaat jo
Unke liye vaktaa bhi hun,
Har peed ki dava hun
To har dhanban ka strot bhi hun.
Param Mitra bhi banjau main
Sarvshresth salahkar hun,
Akelepan ki sathi bhi hun
Haan , aise main ek kitab hun.

-Akanksha Bhatnagar

Hindi Poem on Sports – कबड्डी पर कविता


ऐ कबड्डी तू जान है
मेरी तुझसे तो पहचान है
मेरी कबड्डी तुझे सम्मान ना
मिला क्रिकेट जितना पहचान ना
मिला तू ख्वाबों की वो रानी है
अपने देश की कहानी है
तू सभ्यताओं की मेल है
तू सांस्कृतिक वो इस खेल है
ए इस खेल के खिलाड़ी के खिलेगा
तेरा चेहरा भी तुझे भी सम्मान मिलेगा
क्रिकेट जितना पहचान मिलेगा
कबड्डी हमारी शान है
कबड्डी हमारी जान है
यह खेल नहीं है बच्चों का इसमें
दम निकल जाता है अच्छे अच्छों का,

-चंदन कुमार पटेल

Ae Kabaddi tu jaan hai
Meri tujhi se to pehchan hai
Meri kabaddi tujhe samman na
Mila cricket jitna pehchan na
Mila tu khwabon ki wo rani hai
Apne desh ki kahani hai
Tu sabhyataon ki mail hai
Tu sanskritik wo is khel hai
Ae ish khel ke khiladi khilega
Tera chehra bhi tujhe bhi samman milega
Cricket jitna pehchaan milega
Kabaddi hamari shaan hai
Kabaddi hamari jaan hai
Yeh khel nahi hai bacchon ka isme
Dam nikal jata hai achche achchon ka.

-Chandan Kumar Patel

Motivational Poems on Life – जीवन एक युद्ध


जीवन है एक अटल युद्ध..
तुझको लड़ना होगा ।
जीना-मरना घायल होना,
अटल सत्य होगा ।।
बढ़ता जा तू पवन-वेग से,
रहना अडिग, सीख ले तरु से,
ज्योतिर्मय कर, निकल जिधर से,
मग छायामय, कर दे मरू के….
राहें रुक भी जाएं,
तबभी तुझको चलना होगा…
जीवन है एक अटल युद्ध,
तुझको लड़ना होगा ||
रण भेरी की तान तरंगित,
घेर खड़े, योद्धागण अगणित,
होगा तू अरिमध्य अकेला,
बदले संबंधों से शंकित,
साथ पराए देंगे,
दुश्मन कोई अपना होगा…
जीवन है, एक अटल युद्ध,
तुझको लड़ना होगा ।।
स्वर्ग लोक बैठा चतुरानन,
तू दिग्भ्रमित, देख जग कानन,
स्वप्न धरे के धरे रहेंगे,
इच्छाओं के महामेरू मन…..
सांसे डोर झुलायेंगी,
सुख-दुख का पलना होगा….
जीवन है एक अटल युद्ध,
तुझको लड़ना होगा ।।
नर सा जीव नहीं कोई उत्तम,
राष्ट्रभक्ति ही भक्ति महत्तम,
मातृभूमि की एक पुकार सुन….
मृत्यु-वरण कर अमर नरोत्तम,
जन छलकेगी जिस दिन,
तेरा गवना होगा…
जीवन है एक अटल युद्ध,
तुझको लड़ना होगा ।।

-डॉ. रविन्द्र उपाध्याय “गुंजन”

Jeevan hai ek atal yudh
Tujhko ladna hoga
Jeena marna ghayal hona
Atal satya hoga
Badta ja tu pawan – beg se
Rehna adig sikh le taru se
Jyotirmaya kar nikal jidhr se
Mag chayamaya kar de maru ke
Rahein ruk kbhi jaye
Tab bhi tujhko chalna hoga
Jeevan hai ek atal yudh
Tujhko ladna hoga
Ran bheri ki taan tarangit
Gher khade yaudhagan aganit
Hoga tu arimadhya akela
Badle sambandho se shankit
Sath paraye denge
Dushman koi apna hoga
Jeevan hai ek atal yudh
Tujhko ladna hoga
Swarg baith chaturanan
Tu digrbhramit dekh jag kanan
Swapn dhare ke dhare rahenge
Ichchao ke mahameru man
Saanshein dor jhulayengi
Such dukh ka palan hoga
Jeevan hai ek atal yudh
Nar sa jeev nahi koi uttam
Rashtrabhakti hee bhakti hi mehttam
Matrbhumi ki ek pukar sun
Mrityu varan kar amar narottam
Jan chhalkegi jis din
Tera gawana hoga
Jeevan hai ek atal yudh
Tujhko ladna hoga

– Dr. Ravinder Upadhayay “Gunjan”

Hindi Poem on Motivation – क्या बात करूँ


क्या बात करूँ मैं लोगो की
सब आप बताये बैठे है
कुछ दर्द छुपाये बैठे है
कुछ ख़्वाब छुपाये बैठे है

कुछ हस्ते है ऊपर ऊपर
कुछ रोते है नकली नकली
कुछ बातें ऐसे करते है
संसार चलाये बैठे है

सच झूठ किसी की बातों का
कुछ पता नहीं चलता अब तो
कुछ के सच भी अब झूठ लगे
कुछ झूठ चलाये बैठे है

ख्वाबों का पर्दा यहाँ पर अब
बंद सा है खुलता ही नहीं
संसार समाज सभी अपने
अधिकार बताये बैठे है

इस दुनिया में अगर कुछ करना है
अपनी मर्ज़ी की करना तू
हो सफल अगर तो बात ही क्या
पर न हो तो मत डरना तू

बस चलता जा तू सही डगर
और पीछे कभी न मुड़ना तू
जब पहुंचेगा तू मज़िल पर
वो बात अलग ही सी होगी

तुझसे मिलने को सब “वोह ” लोग
कतार लगाये बैठे है

-मुसाफ़िर

Kya baat karu mein logo ki,
Sab aap bataye baithe hai.
Kuch dard chupaye baithe hai,
Kuch khawab chupaye baithe hai.

Kuch haste hai upar upar,
Kuch rote hai nakli nakli.
Kuch baatein aesi karte hai,
Sansar chalye baithe hai.

Sach jhooth kisi ki baaton ka,
Kuch pata nhi chalta ab toh.
Kuch ke sach bhi ab jhooth lage,
Kuch jhooth chalye baithe hai.

Khwabon ka parda yaha par ab,
Band sa hai khulta hi nahi.
Sansar samaj sabhi apne,
Adhikar bataye baithe hai.

Is duniya me agar kuch karna hai,
Apni marzi ki karna tu.
Ho safal agar to baat hi kya,
Par na ho to mat darna tu.

Bas chalta ja tu sahi dagar,
Or peeche kabhi na mudna tu.
Jab pahuchega tu manzil par,
Vo baat alag hi si hogi,

Tujhse milne ko sab “voh” log,
Kataar lagaye baithe hai..

-Musafir